Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Dec 2022 · 1 min read

*कन्या-धन जो दिया ईश तुम को प्रणाम सौ बार (गीत)*

कन्या-धन जो दिया ईश तुम को प्रणाम सौ बार (गीत)
_________________________
कन्या-धन जो दिया ईश तुम को प्रणाम सौ बार
1
उसका शुभागमन ऐसा, ज्यों नभ में लाली छाई
वह आई धरती पर, मानो सूर्य-किरण मुस्काई
वह बेटी थी धन्य हो गया उससे घर-परिवार
2
दुर्गा के नौ रूप सूक्ष्म-गुण उसमें बसते पाए
बनने सिर्फ सवारी उसके लिए सिंह सब आए
शंख-पद्मधारी वह रखती अनुपम शुभ्र विचार
3
वह खुद में धन की देवी परआश्रित कभी न पाई
ज्ञान-बुद्धि की वह देवी मस्तिष्क बलवती लाई
नहीं सहेगी कभी दासता अथवा अत्याचार
कन्या-धन जो दिया ईश तुम को प्रणाम सौ बार
———————————–
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
देश गान
देश गान
Prakash Chandra
* किधर वो गया है *
* किधर वो गया है *
surenderpal vaidya
💐प्रेम कौतुक-451💐
💐प्रेम कौतुक-451💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*टाले से टलता कहाँ ,अटल मृत्यु का सत्य (कुंडलिया)*
*टाले से टलता कहाँ ,अटल मृत्यु का सत्य (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कि लड़का अब मैं वो नहीं
कि लड़का अब मैं वो नहीं
The_dk_poetry
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
जब भी मनचाहे राहों ने रुख मोड़ लिया
जब भी मनचाहे राहों ने रुख मोड़ लिया
'अशांत' शेखर
*
*"आज फिर जरूरत है तेरी"*
Shashi kala vyas
🌹थम जा जिन्दगी🌹
🌹थम जा जिन्दगी🌹
Dr Shweta sood
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
gurudeenverma198
2705.*पूर्णिका*
2705.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आकाश भर उजाला,मुट्ठी भरे सितारे
आकाश भर उजाला,मुट्ठी भरे सितारे
Shweta Soni
शक्तिशालिनी
शक्तिशालिनी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
सत्य कहाँ ?
सत्य कहाँ ?
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
है अभी भी वक़्त प्यारे, मैं भी सोचूंँ तू भी सोच
है अभी भी वक़्त प्यारे, मैं भी सोचूंँ तू भी सोच
Sarfaraz Ahmed Aasee
बरकत का चूल्हा
बरकत का चूल्हा
Ritu Asooja
रोला छंद :-
रोला छंद :-
sushil sarna
ऐ महबूब
ऐ महबूब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"वरना"
Dr. Kishan tandon kranti
नया से भी नया
नया से भी नया
Ramswaroop Dinkar
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Sakshi Tripathi
बचपन-सा हो जाना / (नवगीत)
बचपन-सा हो जाना / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उसकी आंखों से छलकता प्यार
उसकी आंखों से छलकता प्यार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खेत का सांड
खेत का सांड
आनन्द मिश्र
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
जालिमों तुम खोप्ते रहो सीने में खंजर
जालिमों तुम खोप्ते रहो सीने में खंजर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ज़िंदगी जीने के लिये क्या चाहिए.!
ज़िंदगी जीने के लिये क्या चाहिए.!
शेखर सिंह
दूर क्षितिज तक जाना है
दूर क्षितिज तक जाना है
Neerja Sharma
कह दो ना उस मौत से अपने घर चली जाये,
कह दो ना उस मौत से अपने घर चली जाये,
Sarita Pandey
Loading...