Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2022 · 1 min read

कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]

पापा क्यों करते हो कन्यादान ,
मैं कोई दान की वस्तु नहीं।
फिर क्यों किया मेरा दान !
पापा क्यों करते हो कन्यादान!

जन्म हुआ था जब मेरा ,
आप फूले न समाएँ थे ।
घर में लक्ष्मी आई है,
ऐसा कहकर मिलवाएँ थे।

जिगर का टुकड़ा जान हैं मेरी ,
प्राणों से भी प्राण हैं मेरी,
इसके बिना मैं रह न सकूगाँ ,
यह सबको बतलाएँ थे।

मेरी एक खुशी के लिए पापा,
आपने हर दुख उठाएँ थे।
मेरी आँखो में आँसु आने पर,
आप बहुत घबराएँ थे।

जब भी लड़खड़ाये थे मेरे कदम ,
आप अपना हाथ बढ़ाएँ थे।
गिड़ने नही दूंगा मैं बेटी ,
यह विश्वास दिलाएँ थे।

तुम जहाँ – जहाँ रहोगे ,
साया बनकर मैं साथ रहूँगा।
तुम पर मैं बेटी कभी भी
दुख का आँच न आने दूंगा।

तेरे सारे कष्ट मैं,
अपने ऊपर ले लूंगा।
पर तेरी आँखों में बेटी
आँसू कभी न आने दूंगा।

आपके इस प्यार पर पापा
मैं मारी – मारी फिरती थी ।
अपने को मैं पापा ,
किस्मत वाली बेटी समझती थी।

आपने अपने कंधों पर बैठाकर,
दुनियाँ से मुझे मिलवाया था।
उसी कंधे पर बैठकर पापा,
मैंने भी खुब इतराया था।

आज उसी कंधे पर बैठाकर
क्यों कर दिया मुझे पराया!
आज उसी कंधे पर बैठ कर
मेरा दिल है भर-भर आया।

~ अनामिका

Language: Hindi
6 Likes · 4 Comments · 851 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
When we constantly search outside of ourselves for fulfillme
When we constantly search outside of ourselves for fulfillme
Manisha Manjari
अमृत वचन
अमृत वचन
Dp Gangwar
💐प्रेम कौतुक-389💐
💐प्रेम कौतुक-389💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
श्री सुंदरलाल सिंघानिया ने सुनाया नवाब कल्बे अली खान के आध्यात्मिक व्यक्तित्व क
श्री सुंदरलाल सिंघानिया ने सुनाया नवाब कल्बे अली खान के आध्यात्मिक व्यक्तित्व क
Ravi Prakash
मानसिकता का प्रभाव
मानसिकता का प्रभाव
Anil chobisa
#justareminderdrarunkumarshastri
#justareminderdrarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
Suryakant Dwivedi
संकल्प का अभाव
संकल्प का अभाव
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
"समय का महत्व"
Yogendra Chaturwedi
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
Phool gufran
भारत चाँद पर छाया हैं…
भारत चाँद पर छाया हैं…
शांतिलाल सोनी
कितना प्यार
कितना प्यार
Swami Ganganiya
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
Rohit yadav
"जरा सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
पर दारू तुम ना छोड़े
पर दारू तुम ना छोड़े
Mukesh Srivastava
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
The_dk_poetry
खुशियों को समेटता इंसान
खुशियों को समेटता इंसान
Harminder Kaur
तुम्हारे लिए
तुम्हारे लिए
हिमांशु Kulshrestha
आज, पापा की याद आई
आज, पापा की याद आई
Rajni kapoor
कभी जब ग्रीष्म ऋतु में
कभी जब ग्रीष्म ऋतु में
Ranjana Verma
अपने-अपने काम का, पीट रहे सब ढोल।
अपने-अपने काम का, पीट रहे सब ढोल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
वो ज़ख्म जो दिखाई नहीं देते
वो ज़ख्म जो दिखाई नहीं देते
shabina. Naaz
गले की फांस
गले की फांस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कदम छोटे हो या बड़े रुकना नहीं चाहिए क्योंकि मंजिल पाने के ल
कदम छोटे हो या बड़े रुकना नहीं चाहिए क्योंकि मंजिल पाने के ल
Swati
सुना है सकपने सच होते हैं-कविता
सुना है सकपने सच होते हैं-कविता
Shyam Pandey
दृढ़ निश्चय
दृढ़ निश्चय
विजय कुमार अग्रवाल
बाइस्कोप मदारी।
बाइस्कोप मदारी।
Satish Srijan
Loading...