Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2023 · 1 min read

कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी

कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
खुद पे रोना आता है गुजरे दिन याद आते जब कभी

377 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुनले पुकार मैया
सुनले पुकार मैया
Basant Bhagawan Roy
हमारे जैसी दुनिया
हमारे जैसी दुनिया
Sangeeta Beniwal
प्रेम मे धोखा।
प्रेम मे धोखा।
Acharya Rama Nand Mandal
23/176.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/176.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्यार जताने के सभी,
प्यार जताने के सभी,
sushil sarna
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
Ravi Betulwala
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कृष्ण दामोदरं
कृष्ण दामोदरं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"राखी"
Dr. Kishan tandon kranti
फूल खिले हैं डाली-डाली,
फूल खिले हैं डाली-डाली,
Vedha Singh
"ज़िंदगी जिंदादिली का नाम है, मुर्दादिल क्या खाक़ जीया करते है
Mukul Koushik
मुझे     उम्मीद      है ए मेरे    दोस्त.   तुम.  कुछ कर जाओग
मुझे उम्मीद है ए मेरे दोस्त. तुम. कुछ कर जाओग
Anand.sharma
सब अपनो में व्यस्त
सब अपनो में व्यस्त
DrLakshman Jha Parimal
मुहब्बत  फूल  होती  है
मुहब्बत फूल होती है
shabina. Naaz
उनसे बिछड़ कर ना जाने फिर कहां मिले
उनसे बिछड़ कर ना जाने फिर कहां मिले
श्याम सिंह बिष्ट
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
लहर आजादी की
लहर आजादी की
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
🥗फीका 💦 त्योहार 💥 (नाट्य रूपांतरण)
🥗फीका 💦 त्योहार 💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
शून्य
शून्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दोस्त
दोस्त
Pratibha Pandey
संघर्षशीलता की दरकार है।
संघर्षशीलता की दरकार है।
Manisha Manjari
कई रात को भोर किया है
कई रात को भोर किया है
कवि दीपक बवेजा
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
Phool gufran
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
Khem Kiran Saini
*जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले*
*जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बाल कविता: भालू की सगाई
बाल कविता: भालू की सगाई
Rajesh Kumar Arjun
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
आपकी क्रिया-प्रतिक्रिया ही आपकी वैचारिक जीवंतता
आपकी क्रिया-प्रतिक्रिया ही आपकी वैचारिक जीवंतता
*Author प्रणय प्रभात*
नानखटाई( बाल कविता )
नानखटाई( बाल कविता )
Ravi Prakash
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
Dr MusafiR BaithA
Loading...