Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2022 · 1 min read

*कथावाचक श्री राजेंद्र प्रसाद पांडेय 【कुंडलिया】*

कथावाचक श्री राजेंद्र प्रसाद पांडेय 【कुंडलिया】
★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★
पाया श्रीमद् भागवत ,कथा-ज्ञान आह्लाद
दाता श्री पांडेय जी , श्री राजेंद्र प्रसाद
श्री राजेंद्र प्रसाद , गली शुभ मंदिर वाली
पुण्य सनातन बोध ,नाम-हरि छटा निराली
कहते रवि कविराय ,महीना एप्रिल आया
दो हजार बाईस , श्रवण-सुख मनहर पाया
————————————————–
रचयिता : रवि प्रकाश, बाजार सर्राफा
रामपुर (उ. प्र.) मोबाइल 9997615451

350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
छठ परब।
छठ परब।
Acharya Rama Nand Mandal
अनसुलझे किस्से
अनसुलझे किस्से
Mahender Singh
सतरंगी इंद्रधनुष
सतरंगी इंद्रधनुष
Neeraj Agarwal
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
Anil chobisa
💐प्रेम कौतुक-94💐
💐प्रेम कौतुक-94💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दूर क्षितिज तक जाना है
दूर क्षितिज तक जाना है
Neerja Sharma
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
Jatashankar Prajapati
गीत।।। ओवर थिंकिंग
गीत।।। ओवर थिंकिंग
Shiva Awasthi
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
Rj Anand Prajapati
शक्ति स्वरूपा कन्या
शक्ति स्वरूपा कन्या
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
श्रावण सोमवार
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हर बार बिखर कर खुद को
हर बार बिखर कर खुद को
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
उसे तो देख के ही दिल मेरा बहकता है।
उसे तो देख के ही दिल मेरा बहकता है।
सत्य कुमार प्रेमी
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Madhavi Srivastava
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कहां बिखर जाती है
कहां बिखर जाती है
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
"ऐ दिल"
Dr. Kishan tandon kranti
वो कपटी कहलाते हैं !!
वो कपटी कहलाते हैं !!
Ramswaroop Dinkar
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
DrLakshman Jha Parimal
वो दिन भी क्या दिन थे
वो दिन भी क्या दिन थे
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*करो योग-व्यायाम, दाल-रोटी नित खाओ (कुंडलिया)*
*करो योग-व्यायाम, दाल-रोटी नित खाओ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"स्वप्न".........
Kailash singh
Kahi pass akar ,ek dusre ko hmesha ke liye jan kar, hum dono
Kahi pass akar ,ek dusre ko hmesha ke liye jan kar, hum dono
Sakshi Tripathi
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
मैं भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
Anis Shah
जो खास है जीवन में उसे आम ना करो।
जो खास है जीवन में उसे आम ना करो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आईना भी तो सच
आईना भी तो सच
Dr fauzia Naseem shad
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
Manisha Manjari
Loading...