Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 3 min read

कथनी और करनी में अंतर

कथनी और करनी में अंतर

अजय और संजय दोनों भाई न केवल पढ़ाई-लिखाई और खेलकूद में ही आगे रहते बल्कि बहुत निडर, साहसी तथा परिश्रमी भी थे। उनके पिताजी एक शासकीय चिकित्सक थे। पिछले दिनों उनका स्थानांतरण शहर से रामपुर गाँव में हो गया था। यह गाँव शहर से बहुत दूर था, इस कारण उनको सपरिवार उस गाँव में ही रहना पड़ा। वहाँ उनको प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के पास ही बना शासकीय मकान रहने को मिल गया।
उनके पिताजी सुबह से लेकर देर रात तक मरीजों से घिरे रहते। मम्मी घर के कामों में व्यस्त रहतीं। समय मिलता तो वे दोनों भाईयों को कुछ देर तक पढ़ातीं। जब वे लोग शहर में थे, तो अजय और संजय का अधिकांश समय स्कूल और टयूशन में ही कट जाता, परंतु यहाँ तो स्कूल के बाद समय कटता ही नहीं था।
एक दिन दोनों भाईयों ने आपस में कुछ विचार-विमर्श किया और चल पड़े अस्पताल अपने पिताजी के पास। संयोगवश उस समय वे अकेले और खाली बैठे थे। दोनों भाईयों को एक साथ देखकर पूछ बैठे- ‘‘क्या बात है बेटे ? सब खैरियत तो है।’’
‘‘पापा सब ठीक है, परंतु यहाँ गाँव में हमारा समय ही नहीं कट रहा है, इसलिए हम आपके काम में कुछ हाथ बँटाना चाहते हैं। हमारे लायक कोई काम हो तो प्लीज बताइए ?’’ अजय ने कहा।
उनके पिताजी दोनों भाईयों को बड़े ध्यान से देखने लगे। बोले- “हां काम तो है … ”
‘‘सच पापा ! जल्दी बताइए प्लीज।’’ दोनों बच्चे एक साथ बोल पड़े।
पिताजी बोेले- ‘‘है, पर…. बहुत कठिन काम है। शायद तुम लोग….।’’ वे कुछ कहते इससे पहले संजय बोल पड़ा- ‘‘आप बताइए तो सही पापा। हम कोई भी काम कर लेंगे।’’
पिताजी ने समझाया- ‘‘देखो बेटे ! यह एक पिछड़ा हुआ गाँव है। यहाँ के ज्यादातर लोग गरीब और अनपढ़ हैं। वे साफ-सफाई तथा उत्तम स्वास्थ्य के सम्बंध में कुछ भी नहीं जानते। ये अंधविश्वासों, कुरीतियों तथा गलत परम्पराओं का पालन अभी भी करते चले जा रहे है। इसलिए तुम लोग इन्हें शिक्षित करने का काम कर सकते हो। इन्हें तुम पढ़ा सकते हो। पढ़-लिखकर ये लोग खुद ही इन बुराइयों को छोड़ देंगे और इनकी आधी समस्याएँ यूँ ही खत्म हो जाएँगी।’’
‘‘हाँ पापाजी ! आप बिलकुल ठीक कह रहे हैं। हम लोग इन्हें पढ़ाएँगे।’’ दोनों भाई एक साथ बोले। तभी कुछ लोग एक बीमार औरत को लेकर आ गए, तो बच्चों ने भी पिताजी से विदा लेकर घर की ओर प्रस्थान किया।
अब दोनों भाईयों ने आसपास के लोगों से कहा कि वे शाम को उनके यहाँ पढ़ने के लिए आया करें। वे ग्रामीण “हाँ” तो कहते पर कोई भी नहीं आता। अब दोनों भाईयों ने गाँव वालों को स्वच्छता के बारे में बताना शुरु किया। ग्रामीण उनकी बातों को सुनते जरूर, पर पालन नहीं करते। वे लोग यहाँ-वहाँ कहीं भी गंदगी कर देते। नालियोें तथा गड्ढों में हमेशा मक्खियाँ भिनभिनातीं रहतीं।
अब दोनोें भाईयों ने फिर से आपस में कुछ विचार-विमर्श किया और एक टोकरी तथा फावड़ा-गैंती लेकर निकल पड़े गाँव सफाई करने लगे। सुबह-सुबह वे दोनों गाँव के एक कोने से कचरे का ढेर हटाने तथा गड्ढों को पाटने के काम में लग गए। आते-जाते लोग उन्हें देखते, कुछ लोग हँस देते तो कुछ व्यंग्य में कुछ कह कर आगे बढ़ जाते। दोनों भाई निर्विकार भाव से अपने काम में जुटे रहे।
अभी कुछ ही देर हुआ था कि उन्हें काम करते देख गाँव की दो-तीन औरतें भी आकर उनके काम में लग गयीं। फिर क्या था…. एक-एक औरतें आती गईं और घंटे भर के भीतर ही पच्चीस-तीस औरतें इस काम में लग गईं। औरतों को काम करते देख उनके घरवाले भी अपने को कहाँ रोक पाते। देखते-ही-देखते गाँव भर के स्त्री-पुरुष इस सफाई अभियान में लग गए और कुछ ही घंटों में पूरे गाँव की सफाई हो गई।
इस प्रकार संजय और अजय ने अपनी करनी से वह काम कर दिखाया जो वे कथनी से नहीं कर सके थे।
अब प्रतिदिन शाम को दोनों भाई गाँव के चौपाल में अशिक्षित लोगों को एक-एक घंटा पढ़ाते भी हैं। इस कार्य में गाँव के पंच, सरपंच और गुरुजी भी उनका सहयोग कर रहे हैं।
उम्मीद है बहुत जल्दी रामपुर पूर्ण साक्षर गाँव बन जाएगा।
डाॅ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर (छ.ग.)

97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धुँधलाती इक साँझ को, उड़ा परिन्दा ,हाय !
धुँधलाती इक साँझ को, उड़ा परिन्दा ,हाय !
Pakhi Jain
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
आक्रोश तेरे प्रेम का
आक्रोश तेरे प्रेम का
भरत कुमार सोलंकी
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ज़िन्दगी में किसी बड़ी उपलब्धि प्राप्त करने के लिए
ज़िन्दगी में किसी बड़ी उपलब्धि प्राप्त करने के लिए
Paras Nath Jha
******** प्रेम भरे मुक्तक *********
******** प्रेम भरे मुक्तक *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आईना
आईना
Sûrëkhâ
दीपक माटी-धातु का,
दीपक माटी-धातु का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कविता - छत्रछाया
कविता - छत्रछाया
Vibha Jain
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"दुःख से आँसू"
Dr. Kishan tandon kranti
😢बड़ा सवाल😢
😢बड़ा सवाल😢
*प्रणय प्रभात*
फसल
फसल
Bodhisatva kastooriya
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
manjula chauhan
जाने किस कातिल की नज़र में हूँ
जाने किस कातिल की नज़र में हूँ
Ravi Ghayal
*जंगल की आग*
*जंगल की आग*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
surenderpal vaidya
खुद को पाने में
खुद को पाने में
Dr fauzia Naseem shad
ईश्वर की बनाई दुनिया में
ईश्वर की बनाई दुनिया में
Shweta Soni
*अग्रसेन को नमन (घनाक्षरी)*
*अग्रसेन को नमन (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
करवाचौथ
करवाचौथ
Dr Archana Gupta
“आखिर मैं उदास क्यूँ हूँ?
“आखिर मैं उदास क्यूँ हूँ?
DrLakshman Jha Parimal
केशव तेरी दरश निहारी ,मन मयूरा बन नाचे
केशव तेरी दरश निहारी ,मन मयूरा बन नाचे
पं अंजू पांडेय अश्रु
अधि वर्ष
अधि वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
यादों के झरोखों से...
यादों के झरोखों से...
मनोज कर्ण
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
डॉ० रोहित कौशिक
गीत नया गाता हूँ
गीत नया गाता हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
Neelam Sharma
2356.पूर्णिका
2356.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
याद आती हैं मां
याद आती हैं मां
Neeraj Agarwal
Loading...