Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Sep 2022 · 1 min read

कटुसत्य

धर्म निरपेक्ष राष्ट्र का संकल्पित भाव
परिकल्पना बनकर रह गया है ,
समाजवाद का नारा शनैः शनैः
पूंजीवाद में बदल रहा है ,
जनप्रतिनिधियों का चुनाव जहां
जाति एवं धर्म के आधार पर हो ,
वहां सर्वधर्म एवं सर्वजातीय संभाव
कैसे स्थापित हो ?
एक धर्म को दूसरे धर्म से नीचा दिखाने की
कोशिश लगी हुई है ,
आलोचनाओं और अनर्गल प्रलापों की
झड़ी लगी हुई है ,
धार्मिक कट्टरवादिता धार्मिक वर्चस्व हेतु
दो गुटों को लड़ाने में लगी हुई है ,
उधर स्वार्थ परक राजनीति भी
अपनी रोटियां सेंकने में लगी हुई हैं ,
जनता को आपस में लड़वाकर
वोट बैंक नीति के चलते राजनेता;
अपनी कुर्सी पक्की कर रहे हैं ,
देश के ज्वलंत मुद्दे बेरोजगारी ,भ्रष्टाचार
और महंगाई से लोगों का ध्यान भटकाकर,
जाति और धर्म के आधार पर
राजनीति कर रहे हैं ,
अधिकांशतः लोग भी इनके दिए
प्रलोभनों के बहकावे में आकर,
इनके इशारों पर चल रहे हैं ,
यथार्थ को झुठलाकर, झूठ का सहारा लेकर,
अपना स्वार्थ सिद्ध कर रहे हैं ,
व्यक्तिगत विवेक समाप्त हो गया है,
और समूह मानसिकता,
सर चढ़कर बोल रही है ,
देश के सर्वधर्म समभाव एवं
सहअस्तित्व की भावना मे
ज़हर घोल रही है ,
सत्य एवं न्याय की गुहार को
प्रपंच रचकर दबाने की
कोशिश की जाती है ,
जनमत के अभाव में
सत्यभावना कुंठित हो,
मानवीयता सिसकती रह जाती है ,
व्यवस्था के दुष्चक्र में फंसा आमआदमी,
त्रिशंकु बन कर रह जाता है ,
किंकर्तव्यविमूढ़ हो,
अपने भाग्य को कोसता रह जाता है।

Language: Hindi
5 Likes · 4 Comments · 302 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
शिव अराधना
शिव अराधना
नवीन जोशी 'नवल'
स्वप्न कुछ
स्वप्न कुछ
surenderpal vaidya
#देसी_ग़ज़ल / #नइयां
#देसी_ग़ज़ल / #नइयां
*Author प्रणय प्रभात*
रमेशराज के दो मुक्तक
रमेशराज के दो मुक्तक
कवि रमेशराज
"गाय"
Dr. Kishan tandon kranti
कलियुगी रिश्ते!
कलियुगी रिश्ते!
Saransh Singh 'Priyam'
वक्त
वक्त
Ramswaroop Dinkar
फूलों की है  टोकरी,
फूलों की है टोकरी,
Mahendra Narayan
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Everyone enjoys being acknowledged and appreciated. Sometime
Everyone enjoys being acknowledged and appreciated. Sometime
पूर्वार्थ
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3140.*पूर्णिका*
3140.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लुगाई पाकिस्तानी रे
लुगाई पाकिस्तानी रे
gurudeenverma198
जनता का भरोसा
जनता का भरोसा
Shekhar Chandra Mitra
क्या मेरा
क्या मेरा
Dr fauzia Naseem shad
तुम याद आए
तुम याद आए
Rashmi Sanjay
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
The_dk_poetry
महंगाई
महंगाई
Surinder blackpen
ओढ़े  के  भा  पहिने  के, तनिका ना सहूर बा।
ओढ़े के भा पहिने के, तनिका ना सहूर बा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
होते फागुन हम अगर, बसता हम में फाग (कुंडलिया)*
होते फागुन हम अगर, बसता हम में फाग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
समय
समय
Paras Nath Jha
सजाया जायेगा तुझे
सजाया जायेगा तुझे
Vishal babu (vishu)
अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस
अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कहने को तो इस जहां में अपने सब हैं ,
कहने को तो इस जहां में अपने सब हैं ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दिल से दिल तो टकराया कर
दिल से दिल तो टकराया कर
Ram Krishan Rastogi
पथिक आओ ना
पथिक आओ ना
Rakesh Rastogi
संगत
संगत
Sandeep Pande
Loading...