Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Oct 2022 · 1 min read

कई वर्ष के बाद

कई वर्ष के बाद

कई वर्ष के बाद डाकिया,
चिट्ठी लाया है,
माँ की प्यार भरी कुछ बातें,
मिट्ठी लाया है |

पोस्टकार्ड लिखने की आदत,
कब की छूट गई थी,
संस्कार की पत्र पेटिका,
मन से टूट गई थी,
माँ जिस हुक्के से पीती थी,
रोज़ तमाकू, उसी चिलम की,
गिट्टी लाया है |

पता नहीं किस देश गई थी,
गाँवों की वह भाषा,
एक कहानी बचपन वाली,
ममता की परिभाषा,
उपले पर सेंकी आटे की
स्वादयुक्त, सतुआ वाली वह
लिट्टी लाया है |

संबंधों में स्वार्थपरकता
के जलते हैं चूल्हे,
संवादों के संकल्पों के
टूट चुके हैं कूल्हे,
उम्मीदों की पत्राली पर,
जन्मभूमि की सोंधी-सोंधी,
मिट्टी लाया है |

शिवानन्द सिंह ‘सहयोगी’
मेरठ

Language: Hindi
1 Like · 134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बचपन का प्रेम
बचपन का प्रेम
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
जीवन दर्शन
जीवन दर्शन
Prakash Chandra
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मेरी बेटियाँ
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
वो किताब अब भी जिन्दा है।
वो किताब अब भी जिन्दा है।
दुर्गा प्रसाद नाग
Image at Hajipur
Image at Hajipur
Hajipur
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
Chunnu Lal Gupta
कृष्ण की फितरत राधा की विरह
कृष्ण की फितरत राधा की विरह
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
साल भर पहले
साल भर पहले
ruby kumari
कुछ तो बाक़ी
कुछ तो बाक़ी
Dr fauzia Naseem shad
2805. *पूर्णिका*
2805. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल _ खुदगर्जियाँ हावी हुईं ।
ग़ज़ल _ खुदगर्जियाँ हावी हुईं ।
Neelofar Khan
"चीखें विषकन्याओं की"
Dr. Kishan tandon kranti
स्वयं आएगा
स्वयं आएगा
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वातावरण चितचोर
वातावरण चितचोर
surenderpal vaidya
■ तेवरी
■ तेवरी
*प्रणय प्रभात*
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
राज वीर शर्मा
अछय तृतीया
अछय तृतीया
Bodhisatva kastooriya
दिये को रोशननाने में रात लग गई
दिये को रोशननाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
बेवफा
बेवफा
नेताम आर सी
भूल ना था
भूल ना था
भरत कुमार सोलंकी
तुमसे ही से दिन निकलता है मेरा,
तुमसे ही से दिन निकलता है मेरा,
इंजी. संजय श्रीवास्तव
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शिगाफ़ तो भरे नहीं, लिहाफ़ चढ़  गया मगर
शिगाफ़ तो भरे नहीं, लिहाफ़ चढ़ गया मगर
Shweta Soni
जिंदगी तूने  ख्वाब दिखाकर
जिंदगी तूने ख्वाब दिखाकर
goutam shaw
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
Manju Singh
*बीमारी जो आई है, यह थोड़े दिन की बातें हैं (हिंदी गजल)*
*बीमारी जो आई है, यह थोड़े दिन की बातें हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*जिंदगी के  हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
*जिंदगी के हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
काव्य में विचार और ऊर्जा
काव्य में विचार और ऊर्जा
कवि रमेशराज
Loading...