Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-556💐

कई ख़ुशी सी देतीं हैं इन पयामों की बातें,
कभी तो जल्द पूरी होंगीं तिरी मिरी ये बातें,
क्या ही कहें ये ज़माने की लकीरें हैं इन्हें देखो,
फ़क़त मिलने भर के लिए पूरी करो ये बातें।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

लगे रहो मेरे चीतो।

Language: Hindi
1 Like · 362 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
शेखर सिंह
शेष न बचा
शेष न बचा
Er. Sanjay Shrivastava
"द्रोह और विद्रोह"
*Author प्रणय प्रभात*
परम सत्य
परम सत्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
श्याम सिंह बिष्ट
बचपन याद बहुत आता है
बचपन याद बहुत आता है
VINOD CHAUHAN
वह इंसान नहीं
वह इंसान नहीं
Anil chobisa
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
Arghyadeep Chakraborty
ऐसे हैं हमारे राम
ऐसे हैं हमारे राम
Shekhar Chandra Mitra
नहीं टूटे कभी जो मुश्किलों से
नहीं टूटे कभी जो मुश्किलों से
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम भी अगर बच्चे होते
हम भी अगर बच्चे होते
नूरफातिमा खातून नूरी
अमीर
अमीर
Punam Pande
श्री गणेशा
श्री गणेशा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
अन्न पै दाता की मार
अन्न पै दाता की मार
MSW Sunil SainiCENA
2461.पूर्णिका
2461.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"कथरी"
Dr. Kishan tandon kranti
सरकारी
सरकारी
Lalit Singh thakur
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
आर.एस. 'प्रीतम'
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
।। रावण दहन ।।
।। रावण दहन ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
आइना अपने दिल का साफ़ किया
आइना अपने दिल का साफ़ किया
Anis Shah
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
आए गए महान
आए गए महान
Dr MusafiR BaithA
राजनीति के नशा में, मद्यपान की दशा में,
राजनीति के नशा में, मद्यपान की दशा में,
जगदीश शर्मा सहज
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी, दुनिया को सौगात है(गीत)*
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी, दुनिया को सौगात है(गीत)*
Ravi Prakash
चाहता है जो
चाहता है जो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बढ़ने वाला बढ़ रहा, तू यूं ही सोता रह...
बढ़ने वाला बढ़ रहा, तू यूं ही सोता रह...
AMRESH KUMAR VERMA
💐अज्ञात के प्रति-84💐
💐अज्ञात के प्रति-84💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बीज और बच्चे
बीज और बच्चे
Manu Vashistha
नाजायज इश्क
नाजायज इश्क
RAKESH RAKESH
Loading...