Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

ज़रा सी बात पे तू भी अकड़ के बैठ गया।

ग़ज़ल

काफिया- अड़ की बंदिश
रद़ीफ- बैठ गया

1212/1122/1212/22
ज़रा सी बात पे तू भी अकड़ के बैठ गया।
ख़ुदा के नाम पे तू क्यों झगड़ के बैठ गया।1

हमारे देश का माहौल है सियासी बहुत,
जो बेवज़ह ही जहां चाहा लड़ के बैठ गया।2

ये बात उसकी कहां थी उसे बताओ कभी,
जफ़ा के नाम पे वो सिर पे चढ़ के बैठ गया।3

शरीफ़ आदमी के बस की राजनीति कहां,
चुनाव होने के पहले वो हड़ के बैठ गया।4

ये इश्क मुश्क भी है सबके बस की बात नहीं,
न कुछ हुआ तो वो चुपचाप तड़ के बैठ गया।5

……….✍️ सत्य कुमार प्रेमी

285 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सत्य कुमार प्रेमी
View all
You may also like:
*यह  ज़िंदगी  नही सरल है*
*यह ज़िंदगी नही सरल है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
Neelam Sharma
हिन्दी
हिन्दी
Bodhisatva kastooriya
तुम बिन रहें तो कैसे यहां लौट आओ तुम।
तुम बिन रहें तो कैसे यहां लौट आओ तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
Harminder Kaur
मेरा गांव
मेरा गांव
अनिल "आदर्श"
NSUI कोंडागांव जिला अध्यक्ष शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana
NSUI कोंडागांव जिला अध्यक्ष शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana
Bramhastra sahityapedia
Keep yourself secret
Keep yourself secret
Sakshi Tripathi
ସାର୍ଥକ ଜୀବନ ସୁତ୍ର
ସାର୍ଥକ ଜୀବନ ସୁତ୍ର
Bidyadhar Mantry
#कविता
#कविता
*प्रणय प्रभात*
अन्याय करने से ज्यादा बुरा है अन्याय सहना
अन्याय करने से ज्यादा बुरा है अन्याय सहना
Sonam Puneet Dubey
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
"इंसाफ का तराजू"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"अपने की पहचान "
Yogendra Chaturwedi
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
SATPAL CHAUHAN
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरे एहसास
मेरे एहसास
Dr fauzia Naseem shad
शरद पूर्णिमा
शरद पूर्णिमा
Raju Gajbhiye
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
मा ममता का सागर
मा ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
पुष्पों का पाषाण पर,
पुष्पों का पाषाण पर,
sushil sarna
चाय पीने से पिलाने से नहीं होता है
चाय पीने से पिलाने से नहीं होता है
Manoj Mahato
नील नभ पर उड़ रहे पंछी बहुत सुन्दर।
नील नभ पर उड़ रहे पंछी बहुत सुन्दर।
surenderpal vaidya
दवाखाना  से अब कुछ भी नहीं होता मालिक....
दवाखाना से अब कुछ भी नहीं होता मालिक....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
SPK Sachin Lodhi
3271.*पूर्णिका*
3271.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इस जीवन का क्या है,
इस जीवन का क्या है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सच और झूठ
सच और झूठ
Neeraj Agarwal
Loading...