Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Nov 2022 · 1 min read

औरत

सदियों से टुकड़े होते रहे तेरे
कभी पैंतीस कभी पैंतीस हज़ार
पर मूर्ख फिर भी न संभली तू
भरोसा करती रही बार बार

पिघल गयी फिसल गयी
फ़ना होने को तत्पर तैयार
आख़िर औरत की औरत रही तू
कुछ और बन के देख इस बार

कब तक फँसेगी पिंजरे कसेगी
बौनी मानसिकता की शिकार
रीति संवेदनाएँ खोखली मान्यताएँ
न बन चर्चा विवाद ख़बर की आहार

उठ जाग चल संभल निकल
समझौता नही स्वाभिमान निखार
खुद में पूरी है तू सम्पूर्ण परिपूर्ण
कर पितृसत्ता पर पुरज़ोर प्रहार

#श्रद्धा #shraddha #पैंतीस #औरत
#रेखांकन|रेखा
#poetessrekhadrolia #poetrycommunity #हिंदीसाहित्य #हिंदीपंक्तियाँ

Language: Hindi
290 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2616.पूर्णिका
2616.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"सूरत और सीरत"
Dr. Kishan tandon kranti
लोकतंत्र
लोकतंत्र
करन ''केसरा''
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
*देश भक्ति देश प्रेम*
*देश भक्ति देश प्रेम*
Harminder Kaur
*** तुम से घर गुलज़ार हुआ ***
*** तुम से घर गुलज़ार हुआ ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सब छोड़ कर चले गए हमें दरकिनार कर के यहां
सब छोड़ कर चले गए हमें दरकिनार कर के यहां
VINOD CHAUHAN
सरस्वती वंदना-3
सरस्वती वंदना-3
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जिंदगी जिंदादिली का नाम है
जिंदगी जिंदादिली का नाम है
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
Mamta Singh Devaa
🌹ढ़ूढ़ती हूँ अक्सर🌹
🌹ढ़ूढ़ती हूँ अक्सर🌹
Dr Shweta sood
सच
सच
Sanjay ' शून्य'
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बिखरा ख़ज़ाना
बिखरा ख़ज़ाना
Amrita Shukla
!! निरीह !!
!! निरीह !!
Chunnu Lal Gupta
ख्याल
ख्याल
अखिलेश 'अखिल'
जब एक ज़िंदगी
जब एक ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
Ranjeet kumar patre
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
*Author प्रणय प्रभात*
अपना प्यारा जालोर जिला
अपना प्यारा जालोर जिला
Shankar N aanjna
सफलता का मार्ग
सफलता का मार्ग
Praveen Sain
खाओ भल्ला या बड़ा ,होता दही कमाल(कुंडलिया)
खाओ भल्ला या बड़ा ,होता दही कमाल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
सृष्टि का अंतिम सत्य प्रेम है
सृष्टि का अंतिम सत्य प्रेम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
Paras Nath Jha
फागुनी धूप, बसंती झोंके
फागुनी धूप, बसंती झोंके
Shweta Soni
जुगनू
जुगनू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Learn self-compassion
Learn self-compassion
पूर्वार्थ
बादल
बादल
Shankar suman
अंतिम एहसास
अंतिम एहसास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...