Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2022 · 2 min read

औरत

वो महिला (मंजू)मेरे स्कूल के ठीक सामने रहती है।एकदम फिट रहती है ।मुझे लगा कि वो गांव की बेटी है क्योंकि मैंने उसे सर पे कभी पल्लू रखते नहीं देखा कड़ाके की ठंड में भी वह स्वेटर नहीं पहनती साड़ी का पतला पल्लू बनाकर सेफ्टी पिन लगाती है। चचेरे देवर को फंसा रखा है।उसकी सारी कमाई ऐंठ लेती है रसोईया से पता चला कि वो बहू है। उसके चाल चलन ठीक नहीं लगते मुझे ।

लाक डाउन में बाहर दिसम्बर माह में मैं आग सेक रही थी रसोइया मेरे पास बैठी हुई थी ।वो महिला मुझे नहीं दिखी मैंने उसके बारे में रसोइया से पूछा।
रसोईया ने बताया कि वो कहीं गई है और फिर उसने बताना शुरू किया।
आज से लगभग 20-25 साल पहले मंजू शादी के बाद विदा होकर ससुराल जा रही थी कि रास्ते में उसका प्रेमी आ गया और मंजू को अपने साथ ले जाने की ज़बरदस्ती करने लगा। ये देख मंजू का पति गुस्से से आग बबूला हो गया और उसके प्रेमी से मारपीट करने लगा मारपीट करने के दौरान उसके प्रेमी की मौत हो गई। बात पुलिस तक गई और मंजू के पति को 25 साल की जेल हो गयी । एक दो साल बाद मंजू की शादी मेरे स्कूल के सामने वाले घर में हो गई थी।

आज पता चला था कि उसका पहला पति (रमेश )जेल से छूट कर आया है। उसने पूरी जवानी इस व्यभिचारी महिला के लिए जेल में काट दिया। उसके माता पिता बेटे के गम में दुनिया से चल बसे।घर विरान हो गया था। अब वो अपने बहन के घर रह रहा है।

मंजू की चालाकी देखिए वो रमेश से मिलने गई और कहा कि वो अपनी जमीन मेरे नाम कर दें। जब यह बात रमेश की बहन को पता चला तो वह लाठी लेकर दौड़ी उसके पीछे फिर मंजू वहां से भाग खड़ी हुई।

ये सब सुनकर मेरा मन उदास हो गया। मौसम में गलन और भी बढ़ गया था आग पर भी जैसे बर्फ पड़ गये थे । घड़ी ने तीन बजाए हम सब घर आने की तैयारी करने लगे।

नूर फातिमा खातून” नूरी”( शिक्षिका)
जिला कुशीनगर
उत्तर प्रदेश

मौलिक स्वरचित
(सच्ची कहानी)

Language: Hindi
528 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझे उस पार उतर जाने की जल्दी ही कुछ ऐसी थी
मुझे उस पार उतर जाने की जल्दी ही कुछ ऐसी थी
शेखर सिंह
*आ गई है  खबर  बिछड़े यार की*
*आ गई है खबर बिछड़े यार की*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
तन माटी का
तन माटी का
Neeraj Agarwal
फितरत
फितरत
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
गीत।। रूमाल
गीत।। रूमाल
Shiva Awasthi
चार बजे
चार बजे
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
सताता है मुझको मेरा ही साया
सताता है मुझको मेरा ही साया
Madhuyanka Raj
अनुभूति
अनुभूति
Pratibha Pandey
सम्राट कृष्णदेव राय
सम्राट कृष्णदेव राय
Ajay Shekhavat
सुकून
सुकून
अखिलेश 'अखिल'
आम आदमी की दास्ताँ
आम आदमी की दास्ताँ
Dr. Man Mohan Krishna
काफिला
काफिला
Amrita Shukla
कार्य महान
कार्य महान
surenderpal vaidya
हे कृतघ्न मानव!
हे कृतघ्न मानव!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दोहे -लालची
दोहे -लालची
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"मतदान"
Dr. Kishan tandon kranti
शहीदों लाल सलाम
शहीदों लाल सलाम
नेताम आर सी
हिन्दू और तुर्क दोनों को, सीधे शब्दों में चेताया
हिन्दू और तुर्क दोनों को, सीधे शब्दों में चेताया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*** आप भी मुस्कुराइए ***
*** आप भी मुस्कुराइए ***
Chunnu Lal Gupta
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
*अपने बाल खींच कर रोती (बाल कविता)*
*अपने बाल खींच कर रोती (बाल कविता)*
Ravi Prakash
3183.*पूर्णिका*
3183.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
बिखरना
बिखरना
Dr.sima
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
कवि दीपक बवेजा
दिल का हाल
दिल का हाल
पूर्वार्थ
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
Raju Gajbhiye
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
वृक्ष लगाओ,
वृक्ष लगाओ,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...