Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

औरत की हँसी

कोई औरत यदि हँस रही है
तो जरूर कोई मार्के की बात होगी, अच्छी बात होगी
यह औरत के पक्ष की बात हो सकती है
मर्द पर उनकी जीत की
जरूरी अभिव्यक्ति भी हो सकती है
हो सकती है यह
गैरजरूरी स्त्री-शर्म को हँसी में उड़ाने की
हँसी भरी स्वच्छंद अभिव्यक्ति
इस अभिव्यक्ति में वे
खुदमुख्तारी का मुनादी करती और परचम लहराती हो सकती हैं

मगर जब वर्णोपरि कोटि की स्त्रियां हँस रही हों
आपस में हँस रही हों
या कि अपने मर्दों के साथ हँस रही हों
तो
अच्छी बात नहीं भी हो सकती है जबकि
कि उनकी यह बात किसी स्त्री विरुद्ध बात भी हो सकती है बेशक!

एक पुरुषसत्तात्मक मर्द से कम मर्द नहीं होतीं बाज औरतें
दलित–वंचित स्त्रियों को बरतते हुए।

Language: Hindi
1 Like · 487 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
हमारे जीवन की सभी समस्याओं की वजह सिर्फ दो शब्द है:—
हमारे जीवन की सभी समस्याओं की वजह सिर्फ दो शब्द है:—
पूर्वार्थ
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*तेरे साथ जीवन*
*तेरे साथ जीवन*
AVINASH (Avi...) MEHRA
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मुर्दे भी मोहित हुए
मुर्दे भी मोहित हुए
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
प्रेमदास वसु सुरेखा
■ ज़रूरत है बहाने की। करेंगे वही जो करना है।।
■ ज़रूरत है बहाने की। करेंगे वही जो करना है।।
*प्रणय प्रभात*
डायरी मे लिखे शब्द निखर जाते हैं,
डायरी मे लिखे शब्द निखर जाते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2653.पूर्णिका
2653.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भीख
भीख
Mukesh Kumar Sonkar
यूँ तो बिखरे हैं
यूँ तो बिखरे हैं
हिमांशु Kulshrestha
"सफ़ीना हूँ तुझे मंज़िल दिखाऊँगा मिरे 'प्रीतम'
आर.एस. 'प्रीतम'
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
दीवारों की चुप्पी में राज हैं दर्द है
दीवारों की चुप्पी में राज हैं दर्द है
Sangeeta Beniwal
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
Phool gufran
कहानी -
कहानी - "सच्चा भक्त"
Dr Tabassum Jahan
*समझो बैंक का खाता (मुक्तक)*
*समझो बैंक का खाता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
आओ करें हम अर्चन वंदन वीरों के बलिदान को
आओ करें हम अर्चन वंदन वीरों के बलिदान को
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"कुछ रास्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रजा शक्ति
प्रजा शक्ति
Shashi Mahajan
सुबह की एक कप चाय,
सुबह की एक कप चाय,
Neerja Sharma
कहाॅं तुम पौन हो।
कहाॅं तुम पौन हो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
किसी भी हाल में ये दिलक़शी नहीं होगी,,,,
किसी भी हाल में ये दिलक़शी नहीं होगी,,,,
Shweta Soni
सुनो जीतू,
सुनो जीतू,
Jitendra kumar
किंकर्तव्यविमूढ़
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
Temple of Raam
Temple of Raam
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
नेताम आर सी
कपूत।
कपूत।
Acharya Rama Nand Mandal
Loading...