Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

*औपचारिकता*

औपचारिकता

डा. अरुणकुमार शास्त्री – एक अबोध बालक अरुण अतृप्त

आदरणीय कह कर दूरी बना ली
असमन्जस की है परत चढा ली ||
प्रिय की प्रियता धूमिल हो गई
अपने पन की जब से विदा दी ||
मैं खोया था भ्रतित्व भजन में
सपन सलोना मन मे सजाये ||
लेकिन उसके इस आशय ने
सपनों की थी बलि चढा दी ||
चूरा चूरा खण्डित खण्डित
हिय का मेरे भाव वितंडित ||
औपचारिकता के एक शब्द ने
सद भावों की होली जला दी ||
सद भावों की तो होली जला दी ||
आदरणीय कह कर दूरी बना ली
असमन्जस की है परत चढा ली ||
भ्रमित भ्रमित से आचरणों से अब
खाली खाली मन है मेरा ||
द्रवित द्रवित सा कुण्ठित मानस
तिल तिल दहक रहा है मेरा ||
ऐसे कैसे जी पाऊँगा
अश्रु भरे क्या पी पाऊँगा ||
इस पीडा से मर जाऊंगा
सुधि ले लो भगवन अब मेरी ||
आदरणीय कह कर दूरी बना ली
असमन्जस की है परत चढा ली ||
औपचारिकता के एक शब्द ने
सद भावों की तो होली जला दी ||
आदरणीय कह कर दूरी बना ली
असमन्जस की है परत चढा ली ||
प्रिय की प्रियता धूमिल हो गई
अपने पन की जब से विदा दी ||

1 Like · 129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
Take responsibility
Take responsibility
पूर्वार्थ
हमारी निशानी मिटा कर तुम नई कहानी बुन लेना,
हमारी निशानी मिटा कर तुम नई कहानी बुन लेना,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ये नोनी के दाई
ये नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
वक्त के साथ सब कुछ बदल जाता है...
वक्त के साथ सब कुछ बदल जाता है...
Ram Babu Mandal
दंगा पीड़ित कविता
दंगा पीड़ित कविता
Shyam Pandey
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
मौहब्बत अक्स है तेरा इबादत तुझको करनी है ।
मौहब्बत अक्स है तेरा इबादत तुझको करनी है ।
Phool gufran
बसंत
बसंत
Bodhisatva kastooriya
क्यूँ ना करूँ शुक्र खुदा का
क्यूँ ना करूँ शुक्र खुदा का
shabina. Naaz
बेटी की शादी
बेटी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
फिर वसंत आया फिर वसंत आया
फिर वसंत आया फिर वसंत आया
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*क्रोध की गाज*
*क्रोध की गाज*
Buddha Prakash
*शाही दरवाजों की उपयोगिता (हास्य व्यंग्य)*
*शाही दरवाजों की उपयोगिता (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
AMRESH KUMAR VERMA
कभी शांत कभी नटखट
कभी शांत कभी नटखट
Neelam Sharma
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
सत्य कुमार प्रेमी
संस्कृत के आँचल की बेटी
संस्कृत के आँचल की बेटी
Er.Navaneet R Shandily
वो कभी दूर तो कभी पास थी
वो कभी दूर तो कभी पास थी
'अशांत' शेखर
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
जै जै जग जननी
जै जै जग जननी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"जाति"
Dr. Kishan tandon kranti
*
*"ममता"* पार्ट-5
Radhakishan R. Mundhra
स्वागत है नवजात भतीजे
स्वागत है नवजात भतीजे
Pooja srijan
रावण था विद्वान् अगर तो समझो उसकी  सीख रही।
रावण था विद्वान् अगर तो समझो उसकी सीख रही।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
"शाम की प्रतीक्षा में"
Ekta chitrangini
लतिका
लतिका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
हमेशा तेरी याद में
हमेशा तेरी याद में
Dr fauzia Naseem shad
परछाइयों के शहर में
परछाइयों के शहर में
Surinder blackpen
Loading...