Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2024 · 1 min read

“औकात”

“औकात”
सूप चलाने वालों की
किसी इंजीनियर से
आज कम औकात नहीं,
सही सूप चलाना
दरअसल अच्छे-अच्छों के
बूते की बात नहीं।

1 Like · 1 Comment · 62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
अमृत वचन
अमृत वचन
Dp Gangwar
"गंगा माँ बड़ी पावनी"
Ekta chitrangini
ज़िन्दगी में
ज़िन्दगी में
Santosh Shrivastava
चुप रहो
चुप रहो
Sûrëkhâ
पहला प्यार सबक दे गया
पहला प्यार सबक दे गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
किस-किस को समझाओगे
किस-किस को समझाओगे
शिव प्रताप लोधी
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
Atul "Krishn"
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
Piyush Prashant
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
Phool gufran
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
Sunil Suman
जो कहना है खुल के कह दे....
जो कहना है खुल के कह दे....
Shubham Pandey (S P)
ये कैसे होगा कि तोहमत लगाओगे तुम और..
ये कैसे होगा कि तोहमत लगाओगे तुम और..
Shweta Soni
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
2402.पूर्णिका
2402.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भारत की सेना
भारत की सेना
Satish Srijan
फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन
फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन
sushil yadav
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
Rj Anand Prajapati
हमारी आखिरी उम्मीद हम खुद है,
हमारी आखिरी उम्मीद हम खुद है,
शेखर सिंह
कसम, कसम, हाँ तेरी कसम
कसम, कसम, हाँ तेरी कसम
gurudeenverma198
Dead 🌹
Dead 🌹
Sampada
"ओखली"
Dr. Kishan tandon kranti
मानसिक तनाव
मानसिक तनाव
Sunil Maheshwari
" शिक्षक "
Pushpraj Anant
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
कहां बिखर जाती है
कहां बिखर जाती है
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दो घूंट
दो घूंट
संजय कुमार संजू
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
फागुन होली
फागुन होली
Khaimsingh Saini
Loading...