Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2023 · 1 min read

ओ लहर बहती रहो …

चाँदनी को दे रही विदाई उनीन्दी पलक
अँगड़ा जागी लहर ललाट धनक अलक
तीर पर उतरी नहाने कनक रश्मि कुनकुनी
ओ लहर बहती रहो कर सब अनसुनी

पग बूँदों की पायल तन अरुणाई का पट
किरणों संग नर्तन शीश सूरज का घट
मंद मंद मदिर गीत गा रही धूप गुनगुनी
ओ लहर बहती रहो कर सब अनसुनी

कल कल छल छल तरुणाई की ताल
थिरक रही यौवन की नथनी कमाल
पुलकित टेर मन की पर्वतों ने सुनी
ओ लहर बहती रहो कर सब अनसुनी

ये कौन प्रिय रच गया पाँवों में महावर
ये कौन चितेरा चला गया हाथ पीले कर
दर्द ये किससे कहे बात है ये अन्दरूनी
ओ लहर बहती रहो कर सब अनसुनी

रेखांकन।रेखा ड्रोलिया
८.११.२३

Language: Hindi
1 Like · 4 Comments · 208 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
Sanjay ' शून्य'
*
*"रोटी"*
Shashi kala vyas
मनुष्यता कोमा में
मनुष्यता कोमा में
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रस्म उल्फत की यह एक गुनाह में हर बार करु।
रस्म उल्फत की यह एक गुनाह में हर बार करु।
Phool gufran
पड़े विनय को सीखना,
पड़े विनय को सीखना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
**वसन्त का स्वागत है*
**वसन्त का स्वागत है*
Mohan Pandey
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
हमने माना अभी
हमने माना अभी
Dr fauzia Naseem shad
পৃথিবী
পৃথিবী
Otteri Selvakumar
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
bhandari lokesh
यादों में
यादों में
Shweta Soni
जज्बात
जज्बात
अखिलेश 'अखिल'
मूर्ख बनाने की ओर ।
मूर्ख बनाने की ओर ।
Buddha Prakash
यदि कोई आपके मैसेज को सीन करके उसका प्रत्युत्तर न दे तो आपको
यदि कोई आपके मैसेज को सीन करके उसका प्रत्युत्तर न दे तो आपको
Rj Anand Prajapati
मन मुकुर
मन मुकुर
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
प्रेम.... मन
प्रेम.... मन
Neeraj Agarwal
*यह सही है मूलतः तो, इस धरा पर रोग हैं (गीत)*
*यह सही है मूलतः तो, इस धरा पर रोग हैं (गीत)*
Ravi Prakash
संस्कार संयुक्त परिवार के
संस्कार संयुक्त परिवार के
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
वक्त की जेबों को टटोलकर,
वक्त की जेबों को टटोलकर,
अनिल कुमार
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
surenderpal vaidya
"पंछी"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
gurudeenverma198
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
Aruna Dogra Sharma
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
😢शर्मनाक😢
😢शर्मनाक😢
*प्रणय प्रभात*
गम   तो    है
गम तो है
Anil Mishra Prahari
चेहरा सब कुछ बयां नहीं कर पाता है,
चेहरा सब कुछ बयां नहीं कर पाता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*चिंता और चिता*
*चिंता और चिता*
VINOD CHAUHAN
Loading...