Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

ओम साईं रक्षक शरणम देवा

ओम साईं रक्षक शरणम देवा,
तेरी कृपा हमें सदा याद आता है।
जब भी हम दुखी होते हैं,
तेरे नाम का जाप हमें राहत देता है।

तू हमारी रक्षा करता है,
हमेशा हमारे साथ रहता है।
तेरी कृपा से हमें मिलती है सुख-शांति,
और हमेशा हमें हर मुसीबत से बचाता है।

तेरी जय जयकार हम गाते हैं,
तेरी महिमा हमें सदा याद आती है।
तू हमें विश्वास दिलाता है,
कि हर परेशानी से हम निकल सकते हैं।

ओम साईं रक्षक शरणम देवा,
तेरी दया हमें सदा याद आती है।
हम तेरे चरणों में आज सुरक्षित हैं,
तेरी कृपा से हमें हमेशा रक्षित रखना।

ॐ साईं राम

1 Like · 1 Comment · 438 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sidhartha Mishra
View all
You may also like:
प्यार है,पावन भी है ।
प्यार है,पावन भी है ।
Dr. Man Mohan Krishna
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम्हारी हँसी......!
तुम्हारी हँसी......!
Awadhesh Kumar Singh
*चुन मुन पर अत्याचार*
*चुन मुन पर अत्याचार*
Nishant prakhar
जंगल, जल और ज़मीन
जंगल, जल और ज़मीन
Shekhar Chandra Mitra
प्यारी सी चिड़िया
प्यारी सी चिड़िया
Dr. Mulla Adam Ali
ग़लत समय पर
ग़लत समय पर
*Author प्रणय प्रभात*
मैं हर महीने भीग जाती हूँ
मैं हर महीने भीग जाती हूँ
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
दोहा-सुराज
दोहा-सुराज
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
24/241. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/241. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीने की
जीने की
Dr fauzia Naseem shad
कविता
कविता
Rambali Mishra
खेल रहे अब लोग सब, सिर्फ स्वार्थ का खेल।
खेल रहे अब लोग सब, सिर्फ स्वार्थ का खेल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अहसासे ग़मे हिज्र बढ़ाने के लिए आ
अहसासे ग़मे हिज्र बढ़ाने के लिए आ
Sarfaraz Ahmed Aasee
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
"इतनी ही जिन्दगी बची"
Dr. Kishan tandon kranti
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
Rj Anand Prajapati
"अपेक्षा"
Yogendra Chaturwedi
🌹मां ममता की पोटली
🌹मां ममता की पोटली
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अपने वतन पर सरफ़रोश
अपने वतन पर सरफ़रोश
gurudeenverma198
कोरोना तेरा शुक्रिया
कोरोना तेरा शुक्रिया
Sandeep Pande
बह रही थी जो हवा
बह रही थी जो हवा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
तुम खेलते रहे बाज़ी, जीत के जूनून में
तुम खेलते रहे बाज़ी, जीत के जूनून में
Namrata Sona
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
Ankita Patel
वन को मत काटो
वन को मत काटो
Buddha Prakash
" एक थी बुआ भतेरी "
Dr Meenu Poonia
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
आओ बैठें ध्यान में, पेड़ों की हो छाँव ( कुंडलिया )
आओ बैठें ध्यान में, पेड़ों की हो छाँव ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
ग़र हो इजाजत
ग़र हो इजाजत
हिमांशु Kulshrestha
Loading...