Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2023 · 2 min read

ऑपरेशन सफल रहा( लघु कथा)

ऑपरेशन सफल रहा( लघु कथा)
****************************
ऑपरेशन थिएटर से जब डॉक्टर दीपक बाहर आए तो दस बारह लोग चिंता की मुद्रा में खड़े हुए थे। डॉक्टर दीपक ने प्रसन्नता से भरकर उनसे कहा “ऑपरेशन सफल रहा, मरीज खतरे से बाहर है”
सुनकर खुशी की लहर दौड़ गई ।एक-एक करके सबने डॉक्टर दीपक को शुभकामनाएं दीं। इसके बाद डॉक्टर दीपक अपने चेंबर में चले गए और मरीज के साथ आए हुए लोग सब इधर-उधर होने लगे।
चेंबर में डॉक्टर दीपक के साथी डॉक्टर सुभाष बैठे हुए थे। प्रश्नवाचक मुद्रा में उन्होंने पूछा” क्या हुआ ? ”
डॉक्टर दीपक ने इस बार चेहरे पर बगैर कोई भाव लाए हुए बताया “मरीज बच गया।”
” भगवान का शुक्र है ,इस बार भी आपकी किस्मत अच्छी रही ।..वैसे एक बात कहूं ! आप ऐसे केस हाथ में क्यों लेते हैं, जिसमें मरीज के बचने की गुंजाइश दस-पाँच प्रतिशत ही होती है ?”
डॉक्टर दीपक ने कहा “मैं ऐसे मरीजों के केस जिनमें उनके बचने की गुंजाइश 10- 5% होती है इसलिए लेता हूं क्योंकि मेरे पास अभी तक कोई ऐसा मरीज नहीं आया जिस के बचने की उम्मीद केवल 1% हो। अगर आएगा तो मैं उसको भी बचाने की पूरी कोशिश करूंगा।”
” यह बहुत खतरनाक है ।आप देख रहे हैं, अगर मरीज को कुछ हो गया तो उसके साथ वाले लोग डॉक्टर को जान से मारने पर तुल जाते हैं ।”
“मृत्यु और जीवन भगवान के हाथ में है। डॉक्टर सिर्फ इलाज कर सकता है और मैं इलाज करना बंद नहीं करूंगा” डॉक्टर दीपक ने दृढ़ता पूर्वक यह बात कह तो दी लेकिन डॉक्टर सुभाष की इस प्रतिक्रिया को वह ठीक प्रकार से नहीं सुन सके जो बुदबुदाहट के रूप में आई थी ..”हे भगवान ! पता नहीं कल को क्या हो ?”
“””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
लेखक : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर( उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 999761 5451

434 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
झुका के सर, खुदा की दर, तड़प के रो दिया मैने
झुका के सर, खुदा की दर, तड़प के रो दिया मैने
Kumar lalit
2820. *पूर्णिका*
2820. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ
तर्जनी आक्षेेप कर रही विभा पर
तर्जनी आक्षेेप कर रही विभा पर
Suryakant Dwivedi
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
Shivkumar Bilagrami
माँ वो है जिसे
माँ वो है जिसे
shabina. Naaz
💐प्रेम कौतुक-548💐
💐प्रेम कौतुक-548💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हे🙏जगदीश्वर आ घरती पर🌹
हे🙏जगदीश्वर आ घरती पर🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Keep yourself secret
Keep yourself secret
Sakshi Tripathi
प्रेम
प्रेम
Dr.Priya Soni Khare
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
चलो...
चलो...
Srishty Bansal
*जितना आसान है*
*जितना आसान है*
नेताम आर सी
दिन आज आखिरी है, खत्म होते साल में
दिन आज आखिरी है, खत्म होते साल में
gurudeenverma198
प्यार की दिव्यता
प्यार की दिव्यता
Seema gupta,Alwar
रिश्ते
रिश्ते
Mamta Rani
// दोहा पहेली //
// दोहा पहेली //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
Anand Kumar
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
SURYA PRAKASH SHARMA
*घर-घर में अब चाय है, दिनभर दिखती आम (कुंडलिया)*
*घर-घर में अब चाय है, दिनभर दिखती आम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भेद नहीं ये प्रकृति करती
भेद नहीं ये प्रकृति करती
Buddha Prakash
"फिर"
Dr. Kishan tandon kranti
आवाज़
आवाज़
Adha Deshwal
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
सेहत या स्वाद
सेहत या स्वाद
विजय कुमार अग्रवाल
मत बांटो इंसान को
मत बांटो इंसान को
विमला महरिया मौज
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रिश्तों की बंदिशों में।
रिश्तों की बंदिशों में।
Taj Mohammad
Loading...