Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2016 · 1 min read

ऐ सामरिक कब आएगा

ऐ सामरिक कब आएगा…………
_________________________________

किस सृजन में है लगा
ऐ सामरिक कब आएगा ।
सज्जनें हैं व्यग्र जग में
सत्य कब फैलाएगा ।।
किस सृजन में………………………..

वक्त है कम काम ज्यादा
जाग जग है सो रहा ।
हर डगर पर अब तलक
अन्याय ही बस हो रहा ।।
किस सृजन में……………………..

सत्य युग के सुप्रभा
लेकर सहर है आ रहा ।
कर्म योगी हो के तुम
अब तक कहाँ सोता रहा ।।
किस सृजन में……………………..

हर दुखों का एक ही
अंतिम दवा है देख ले ।
न्याय को मानस पटल पर
जड के जादू देख ले ।।
किस सृजन में………………………

“न्याय की स्थापना” को
जिंदगी तू मान ले ।
तुझमे भी दिव्यांश है
इस बात को तू जान ले ।।
किस सृजन में………………………

हे प्रभा के स्रोत! मैं हूँ
कर रहा तुझको नमन ।
मन को वो शक्ति दिला
जो सत्य को पहचान ले ।।
किस सृजन में……………………..

सामरिक अरुण
NDS झारखण्ड
31 मार्च 2016
www.nyaydharmsabha.org

Language: Hindi
425 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Mere hisse me ,
Mere hisse me ,
Sakshi Tripathi
बिन बोले ही हो गई, मन  से  मन  की  बात ।
बिन बोले ही हो गई, मन से मन की बात ।
sushil sarna
खाने को रोटी नहीं , फुटपाथी हालात {कुंडलिया}
खाने को रोटी नहीं , फुटपाथी हालात {कुंडलिया}
Ravi Prakash
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"तलाश में क्या है?"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी माटी मेरा देश भाव
मेरी माटी मेरा देश भाव
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जीवन में दिन चार मिलें है,
जीवन में दिन चार मिलें है,
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-393💐
💐प्रेम कौतुक-393💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीवन में ठहरे हर पतझड़ का बस अंत हो
जीवन में ठहरे हर पतझड़ का बस अंत हो
Dr Tabassum Jahan
तेरी आवाज़ क्यूं नम हो गई
तेरी आवाज़ क्यूं नम हो गई
Surinder blackpen
* भावना स्नेह की *
* भावना स्नेह की *
surenderpal vaidya
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
कवि रमेशराज
अपने वतन पर सरफ़रोश
अपने वतन पर सरफ़रोश
gurudeenverma198
दीप्ति
दीप्ति
Kavita Chouhan
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
Paras Nath Jha
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
I can’t be doing this again,
I can’t be doing this again,
पूर्वार्थ
3250.*पूर्णिका*
3250.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ अधूरी बात सुनी थी ना...? अब पूरी पढ़ और समझ भी लें अच्छे से
■ अधूरी बात सुनी थी ना...? अब पूरी पढ़ और समझ भी लें अच्छे से
*Author प्रणय प्रभात*
माँ की याद आती है ?
माँ की याद आती है ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
Dr MusafiR BaithA
।। रावण दहन ।।
।। रावण दहन ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
Rj Anand Prajapati
सुकरात के शागिर्द
सुकरात के शागिर्द
Shekhar Chandra Mitra
बेटी और प्रकृति, ईश्वर की अद्भुत कलाकृति।
बेटी और प्रकृति, ईश्वर की अद्भुत कलाकृति।
लक्ष्मी सिंह
" पुराने साल की बिदाई "
DrLakshman Jha Parimal
हुस्न वालों से ना पूछो गुरूर कितना है ।
हुस्न वालों से ना पूछो गुरूर कितना है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
एक ही भूल
एक ही भूल
Mukesh Kumar Sonkar
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ओसमणी साहू 'ओश'
Loading...