Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

ऐ वतन….

मुसलसल ग़ज़ल
ऐ वतन जानो-दिल से तुझे हम प्यार करते हैं करते रहेंगे
तेरे शैदाई तेरे दिवाने तुझपे मरते हैं मरते रहेगे

आज हैं कल रहें न रहें हम, शान तेरी न होगी कभी कम
तेरी तस्वीर में ख़ून से हम’ रंग भरते हैं भरते रहेंगे

पाक हो, चाहे हो चीन दुश्मन, तोड़ डालेंगे ये उसकी गर्दन
वीर जाँबाज़ शेरों से तेरे, शत्रु डरते हैं डरते रहेंगे

तेरी मिट्टी है माथे का चंदन, तेरे खेतों से निकले है कुंदन
ऐ वतन आबे-जमजम के झरने, तेरी नदियों से झरते रहेंगे

ओढ़ कर इसकी मिट्टी का आँचल, गोद में इसकी सो जाएंगे हम
ऐ ‘अनीस’ इस वतन की फ़ज़ा, में ख़ुशबू बन के बिखरते रहेंगे

तेरी मिट्टी में पैदा हुए हम ख़ाक में तेरी मिल जायेंगे हम
ऐ वतन तेरी दिलकश फ़ज़ा में ख़ुशबुओं सा बिखरते रहेंगे

Language: Hindi
1 Like · 81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेमौसम की देखकर, उपल भरी बरसात।
बेमौसम की देखकर, उपल भरी बरसात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
पूर्वार्थ
राजतंत्र क ठगबंधन!
राजतंत्र क ठगबंधन!
Bodhisatva kastooriya
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
AJAY AMITABH SUMAN
Hum mom ki kathputali to na the.
Hum mom ki kathputali to na the.
Sakshi Tripathi
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
Rj Anand Prajapati
■ अपना दर्द, दवा भी अपनी।।
■ अपना दर्द, दवा भी अपनी।।
*Author प्रणय प्रभात*
"मकर संक्रान्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
नूरफातिमा खातून नूरी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सूर्य के ताप सी नित जले जिंदगी ।
सूर्य के ताप सी नित जले जिंदगी ।
Arvind trivedi
नशीली आंखें
नशीली आंखें
Shekhar Chandra Mitra
इस जग में है प्रीत की,
इस जग में है प्रीत की,
sushil sarna
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
Anand Kumar
*दूसरी अपनी काया 【कुंडलिया】*
*दूसरी अपनी काया 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
मन से मन को मिलाओ सनम।
मन से मन को मिलाओ सनम।
umesh mehra
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
Shravan singh
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
goutam shaw
कभी-कभी वक़्त की करवट आपको अचंभित कर जाती है.......चाहे उस क
कभी-कभी वक़्त की करवट आपको अचंभित कर जाती है.......चाहे उस क
Seema Verma
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
Piyush Goel
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Akshay patel
फितरत
फितरत
Sukoon
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शिव की बनी रहे आप पर छाया
शिव की बनी रहे आप पर छाया
Shubham Pandey (S P)
लौट कर वक़्त
लौट कर वक़्त
Dr fauzia Naseem shad
,,........,,
,,........,,
शेखर सिंह
सलाम भी क़ुबूल है पयाम भी क़ुबूल है
सलाम भी क़ुबूल है पयाम भी क़ुबूल है
Anis Shah
नारी जीवन
नारी जीवन
Aman Sinha
2621.पूर्णिका
2621.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...