Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2017 · 1 min read

*** ऐ चाँद ***

ऐ चांद ? तेरी रौशनी
दुनियां को शीतल कर दे
मेरे हृदय की आग को
क्यों ठण्डा नहीं करती
ऐ चांद ?क्या तुम भी
भेदभाव ? करते हो
इन्सां-इन्सां ?के बीच
रोशनी सब?के लिए है
मेरे लिए ? अंधेरा क्यूं
ऐ चांद खुदा जन्नत में है
मेरी शिकायत कह देना
कहते लोग नूर-ए-खुदा
जगमग जहां करता है
तूं भी तो उसी के नूर से
रोशन आसमां में होगा
ना दोष दूंगा मैं तुझको
एक चांद जमीं पर है जो
मुझको बेताब करता है
शायद उपरवाला भी
मुझसे से जलता है
इसीलिए मुझे बार-बार
छलता है छलता है
फिर भी मेरे अंदर वही
प्रेम पलता है पलता है
ऐ चांद उस बेखबर को
तो खबर कर दो जिसके
लिए ये दिल जलता है।।

?मधुप बैरागी

Language: Hindi
1 Like · 574 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from भूरचन्द जयपाल
View all
You may also like:
एक तरफ तो तुम
एक तरफ तो तुम
Dr Manju Saini
सत्य से विलग न ईश्वर है
सत्य से विलग न ईश्वर है
Udaya Narayan Singh
संघर्ष जीवन हैं जवानी, मेहनत करके पाऊं l
संघर्ष जीवन हैं जवानी, मेहनत करके पाऊं l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
2802. *पूर्णिका*
2802. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#देसी_ग़ज़ल-
#देसी_ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
अरशद रसूल बदायूंनी
इतना हमने भी
इतना हमने भी
Dr fauzia Naseem shad
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
ओसमणी साहू 'ओश'
क्या बोलूं
क्या बोलूं
Dr.Priya Soni Khare
संस्कार
संस्कार
Sanjay ' शून्य'
"पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
surenderpal vaidya
तुम ढाल हो मेरी
तुम ढाल हो मेरी
गुप्तरत्न
मुझे आज तक ये समझ में न आया
मुझे आज तक ये समझ में न आया
Shweta Soni
*कर्मों का लेखा रखते हैं, चित्रगुप्त महाराज (गीत)*
*कर्मों का लेखा रखते हैं, चित्रगुप्त महाराज (गीत)*
Ravi Prakash
THIS IS WHY YOU DON’T SUCCEED:
THIS IS WHY YOU DON’T SUCCEED:
पूर्वार्थ
ऐसा तूफान उत्पन्न हुआ कि लो मैं फँस गई,
ऐसा तूफान उत्पन्न हुआ कि लो मैं फँस गई,
Sukoon
मैं तुझे खुदा कर दूं।
मैं तुझे खुदा कर दूं।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो  एक  है  नारी
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो एक है नारी
Anil Mishra Prahari
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
नाकामयाबी
नाकामयाबी
भरत कुमार सोलंकी
उदासी एक ऐसा जहर है,
उदासी एक ऐसा जहर है,
लक्ष्मी सिंह
तुम रूबरू भी
तुम रूबरू भी
हिमांशु Kulshrestha
धुन
धुन
Sangeeta Beniwal
जैसे
जैसे
Dr.Rashmi Mishra
फार्मूला
फार्मूला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अब मत खोलना मेरी ज़िन्दगी
अब मत खोलना मेरी ज़िन्दगी
शेखर सिंह
अद्वितीय संवाद
अद्वितीय संवाद
Monika Verma
किससे कहे दिल की बात को हम
किससे कहे दिल की बात को हम
gurudeenverma198
प्रेम एक सहज भाव है जो हर मनुष्य में कम या अधिक मात्रा में स
प्रेम एक सहज भाव है जो हर मनुष्य में कम या अधिक मात्रा में स
Dr MusafiR BaithA
Loading...