Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Oct 2016 · 1 min read

ऐ चाँद आज तू जल्दी आ/मंदीप

ऐ चाँद आज तू जल्दी आ,
बूखा है मेरा चाँद तू जल्दी आ।

खड़ा मेरा चाँद छत पर,
तू जल्दी से छत पर आ ।
ऐ चाँद आज तू जल्दी आ।

माँगेगा दूआ मेरा चाँद तुम से,
जरा तू अपना दीदार तो करा।
ऐ चाँद आज तू जल्दी आ।

हो ना कभी अलग मेरा चाँद मुझ से,
आज ऐसा आशिर्वाद दे कर तो जा।
ऐ चाँद आज तू जल्दी आ।

मंदीपसाई

Language: Hindi
279 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ एक_और_बरसी...
■ एक_और_बरसी...
*Author प्रणय प्रभात*
शिवा कहे,
शिवा कहे, "शिव" की वाणी, जन, दुनिया थर्राए।
SPK Sachin Lodhi
वो पहली पहली मेरी रात थी
वो पहली पहली मेरी रात थी
Ram Krishan Rastogi
भूलकर चांद को
भूलकर चांद को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
Shyam Sundar Subramanian
साहस
साहस
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
झूठी शान
झूठी शान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वह मेरे किरदार में ऐब निकालता है
वह मेरे किरदार में ऐब निकालता है
कवि दीपक बवेजा
बवंडरों में उलझ कर डूबना है मुझे, तू समंदर उम्मीदों का हमारा ना बन।
बवंडरों में उलझ कर डूबना है मुझे, तू समंदर उम्मीदों का हमारा ना बन।
Manisha Manjari
विचार मंच भाग - 6
विचार मंच भाग - 6
डॉ० रोहित कौशिक
गाँव की गोरी
गाँव की गोरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिसके ना बोलने पर और थोड़ा सा नाराज़ होने पर तुम्हारी आँख से
जिसके ना बोलने पर और थोड़ा सा नाराज़ होने पर तुम्हारी आँख से
Vishal babu (vishu)
आदमी की गाथा
आदमी की गाथा
कृष्ण मलिक अम्बाला
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
यह तेरा चेहरा हसीन
यह तेरा चेहरा हसीन
gurudeenverma198
*स्वामी विवेकानंद* 【कुंडलिया】
*स्वामी विवेकानंद* 【कुंडलिया】
Ravi Prakash
संगिनी
संगिनी
Neelam Sharma
दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है Vinit Singh Shayar
दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
💐प्रेम कौतुक-430💐
💐प्रेम कौतुक-430💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
!! कुछ दिन और !!
!! कुछ दिन और !!
Chunnu Lal Gupta
मेरे सपनों का भारत
मेरे सपनों का भारत
Shekhar Chandra Mitra
3032.*पूर्णिका*
3032.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चर्चित हुए हम
चर्चित हुए हम
Dr. Sunita Singh
अहंकार और आत्मगौरव
अहंकार और आत्मगौरव
कुमार
पतंग
पतंग
Suryakant Dwivedi
पेड़ों से बतियाता हूँ
पेड़ों से बतियाता हूँ
Satish Srijan
जीत वो सकते हैं कैसे
जीत वो सकते हैं कैसे
Dr fauzia Naseem shad
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
एकाकीपन
एकाकीपन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...