Oct 19, 2016 · 1 min read

ऐ चाँद आज तू जल्दी आ/मंदीप

ऐ चाँद आज तू जल्दी आ,
बूखा है मेरा चाँद तू जल्दी आ।

खड़ा मेरा चाँद छत पर,
तू जल्दी से छत पर आ ।
ऐ चाँद आज तू जल्दी आ।

माँगेगा दूआ मेरा चाँद तुम से,
जरा तू अपना दीदार तो करा।
ऐ चाँद आज तू जल्दी आ।

हो ना कभी अलग मेरा चाँद मुझ से,
आज ऐसा आशिर्वाद दे कर तो जा।
ऐ चाँद आज तू जल्दी आ।

मंदीपसाई

115 Views
You may also like:
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
ग़ज़ल
kamal purohit
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
हे गुरू।
Anamika Singh
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
नाम
Ranjit Jha
💐प्रेम की राह पर-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार "कर्ण"
**नसीब**
Dr. Alpa H.
"एक नई सुबह आयेगी"
पंकज कुमार "कर्ण"
# जीत की तलाश #
Dr. Alpa H.
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
पिता
Kanchan Khanna
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
कोई तो है कहीं पे।
Taj Mohammad
सहारा
अरशद रसूल /Arshad Rasool
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मातृ रूप
श्री रमण
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
तू एक बार लडका बनकर देख
Abhishek Upadhyay
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...