Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2018 · 1 min read

ऐ खुदा एक शायर बना दे मुझे…..

ऐ खुदा एक शायर बना दे मुझे,
अपने मेहबूब के गीत गाता रहूं ।
नाम तेरा न अपनी जुबां पर मैं लूं,
प्यारे मेहबूब ही गुनगुनाता रहूं ॥

लाख शिकवा करे यह जमाना भले,
उस अदा पर सदा दिल लुटाता रहूं ।
एक मुस्कान पर शायरीं सौ लिखूं,
प्यारी जुल्फों पे मरना सुनाता रहूं ॥

उम्र तनहाईयों में भले जाय ढल ,
दिल में दुल्हन उसे ही सजाता रहूं ।
काश वो भी कभी प्यार से देख ले,
मार ठोकर जहां को भुलाता रहूं ॥

जय श्री राधेकृष्ण

Language: Hindi
445 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
****🙏🏻आह्वान🙏🏻****
****🙏🏻आह्वान🙏🏻****
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
* भोर समय की *
* भोर समय की *
surenderpal vaidya
जोश,जूनून भरपूर है,
जोश,जूनून भरपूर है,
Vaishaligoel
जब भी दिल का
जब भी दिल का
Neelam Sharma
31 जुलाई और दो सितारे (प्रेमचन्द, रफ़ी पर विशेष)
31 जुलाई और दो सितारे (प्रेमचन्द, रफ़ी पर विशेष)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वगिया है पुरखों की याद🙏
वगिया है पुरखों की याद🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
Dr MusafiR BaithA
दिल होता .ना दिल रोता
दिल होता .ना दिल रोता
Vishal Prajapati
3012.*पूर्णिका*
3012.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"सुबह की चाय"
Pushpraj Anant
किस बात का गुरुर हैं,जनाब
किस बात का गुरुर हैं,जनाब
शेखर सिंह
यादों के तराने
यादों के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
रक्षाबन्धन
रक्षाबन्धन
कार्तिक नितिन शर्मा
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
shabina. Naaz
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
जगदीश शर्मा सहज
"Guidance of Mother Nature"
Manisha Manjari
शक्तिहीनों का कोई संगठन नहीं होता।
शक्तिहीनों का कोई संगठन नहीं होता।
Sanjay ' शून्य'
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
sushil sarna
-- मौत का मंजर --
-- मौत का मंजर --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मोतियाबिंद
मोतियाबिंद
Surinder blackpen
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
#धवल_पक्ष
#धवल_पक्ष
*प्रणय प्रभात*
बुद्धं शरणं गच्छामि
बुद्धं शरणं गच्छामि
Dr.Priya Soni Khare
"समरसता"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...