Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 1 min read

ऐसी मेरी बहना

वो सुबह-शाम घर की जलती दीया
रौशन कर रहा घर को मेरी बहना“सिया”
नजाकत से सम्भाली है रिश्तों को टूटने से
कभी उसने रिश्तों में दरार न पड़ने दिया

नयी-नयी कोंपल सी उसमें है कोमलता
हैं ओझल नज़रों से मेरी बहना “ममता”
सूना-सूना सा लगता है घर उनके बिन
उसकी आने से घर है चहकता -महकता

“कुसुम” की खुशबू से महकती है
मेरे घर के हर कोना – कोना
है थोड़ी सांवली सलोनी क्या कहना
झलकती है सादगी ऐसी मेरी बहना

मधु की झरना धरा पर , है मधुनिशा
मनभावन गुलज़ार वो है पुष्प वाटिका
है रातरानी मेरी प्यारी बहना “नीरा”
कुदरत की रौनक रहें,वो न हो कभी वीरां

जिसके नूर से धरती की
एक दिन दूर होगी कालिमा
दूर गगन में चमकती “रेवती”
है “दुष्यंत”की प्यारी बहना

चंचल -चपल मन वो है चुलबुली
वो रंग-बिरंग सी जैसी कोई तितली
पुरवा संग झूमने वो गीत गाने चली
थोड़ी मनचली है प्यारी बहना “बबली”

दीप सजे आँगन में जब आये “देविका”
गायें पुरवा प्रणय राग,हो चांदनी निशा
सोंधी माटी करे उनकी पैरों को चुम्बन
है रूमानी बहारों जैसी मेरी प्यारी बहन

जूही लहके धरती महके हुआ बसंत आगमन
तेरे आने से चहक-महक उठा है घर आंगन
दुनिया में खूबसूरत हैं भाई -बहन का बंधन
“हिमांशी” बहना तेरी बातें सबकी भाति है मन

वो मेरी लाड़ली बहना सबसे प्यारी
वो हैं नन्हीं सी जैसी हो कोई परी
खिल खिलाती वो खुशियों की रवानी
वो चंचल सयानी मेरी बहना “हिमानी”

Language: Hindi
1162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अगर हौसला हो तो फिर कब ख्वाब अधूरा होता है,
अगर हौसला हो तो फिर कब ख्वाब अधूरा होता है,
Shweta Soni
किसी नदी के मुहाने पर
किसी नदी के मुहाने पर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हक जता तो दू
हक जता तो दू
Swami Ganganiya
चन्द्रयान पहुँचा वहाँ,
चन्द्रयान पहुँचा वहाँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपने किरदार को किसी से कम आकना ठीक नहीं है .....
अपने किरदार को किसी से कम आकना ठीक नहीं है .....
कवि दीपक बवेजा
मान तुम प्रतिमान तुम
मान तुम प्रतिमान तुम
Suryakant Dwivedi
#drArunKumarshastri
#drArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
5) कब आओगे मोहन
5) कब आओगे मोहन
पूनम झा 'प्रथमा'
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
*जब से मुझे पता चला है कि*
*जब से मुझे पता चला है कि*
Manoj Kushwaha PS
गुलशन की पहचान गुलज़ार से होती है,
गुलशन की पहचान गुलज़ार से होती है,
Rajesh Kumar Arjun
@ !!
@ !! "हिम्मत की डोर" !!•••••®:
Prakhar Shukla
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
आग उगलती मेरी क़लम
आग उगलती मेरी क़लम
Shekhar Chandra Mitra
सोशल मीडिया
सोशल मीडिया
Surinder blackpen
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
सत्य कुमार प्रेमी
शीर्षक:
शीर्षक: "ओ माँ"
MSW Sunil SainiCENA
बेरोजगारी।
बेरोजगारी।
Anil Mishra Prahari
सृष्टि की अभिदृष्टि कैसी?
सृष्टि की अभिदृष्टि कैसी?
AJAY AMITABH SUMAN
मुक्तक
मुक्तक
दुष्यन्त 'बाबा'
वातावरण चितचोर
वातावरण चितचोर
surenderpal vaidya
भूलकर चांद को
भूलकर चांद को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गाँव की याद
गाँव की याद
Rajdeep Singh Inda
भटक ना जाना तुम।
भटक ना जाना तुम।
Taj Mohammad
************ कृष्ण -लीला ***********
************ कृष्ण -लीला ***********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
समय सबों को बराबर मिला है ..हमारे हाथों में २४ घंटे रहते हैं
समय सबों को बराबर मिला है ..हमारे हाथों में २४ घंटे रहते हैं
DrLakshman Jha Parimal
क्यों नारी लूट रही है
क्यों नारी लूट रही है
gurudeenverma198
हिंदी है पहचान
हिंदी है पहचान
Seema gupta,Alwar
संगीत का महत्व
संगीत का महत्व
Neeraj Agarwal
Loading...