Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

ऐसी आज़ादी से गुलामी अच्छी थी

कित के आज़ाद होये हाम चैन सुख म्हारा खोग्या।
दो टुकड़े होये भारत माता के न्यू जुल्म घना होग्या।।

इसी आज़ादी त हाम सौ गुणा गुलाम भले थे।
रोज के होते बलात्कारां त वे कत्लेआम भले थे।
आज के नेताओं त वे अंग्रेज बदनाम भले थे।
सब जान के भी कुछ ना कर सकदे न्यू रोम रोम रोग्या।।

तन त आज़ाद होग्ये पर सोच रही गुलामा आली।
कुछ भूखे मरें आड़े कुछ कर रहे कमाई काली।
तमाशगर बने हम देखाँ तमाशा बजावाँ ताली।
बने जुल्मी अन्यायी हाम म्हारा जमीर भी सोग्या।।

पहले अंग्रेज लुटा करते हमने आज अपने लूटें।
कुछ लोग देश नै अपनी प्रोपर्टी समझ ऐश कुटें।
दीमक ज्यूँ म्हारे देश नै भीतर ऐ भीतर वे चुटें।
पल पल रंग बदलें देख गिरगिट बी मुंह लकोग्या।।

गरीबां के मुंह का निवाला, शहीदां का कफ़न बेचें।
चंद सोने चाँदी के सिक्कां खातर अपना वतन बेचें।
आज़ादी का के फायदा जब भूखे मरदे लोग तन बेचें।
“”सुलक्षणा”” तेरा लिखना बदलाव का बीज बोग्या।।

264 Views
You may also like:
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...