Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2016 · 1 min read

ऐसी आज़ादी से गुलामी अच्छी थी

कित के आज़ाद होये हाम चैन सुख म्हारा खोग्या।
दो टुकड़े होये भारत माता के न्यू जुल्म घना होग्या।।

इसी आज़ादी त हाम सौ गुणा गुलाम भले थे।
रोज के होते बलात्कारां त वे कत्लेआम भले थे।
आज के नेताओं त वे अंग्रेज बदनाम भले थे।
सब जान के भी कुछ ना कर सकदे न्यू रोम रोम रोग्या।।

तन त आज़ाद होग्ये पर सोच रही गुलामा आली।
कुछ भूखे मरें आड़े कुछ कर रहे कमाई काली।
तमाशगर बने हम देखाँ तमाशा बजावाँ ताली।
बने जुल्मी अन्यायी हाम म्हारा जमीर भी सोग्या।।

पहले अंग्रेज लुटा करते हमने आज अपने लूटें।
कुछ लोग देश नै अपनी प्रोपर्टी समझ ऐश कुटें।
दीमक ज्यूँ म्हारे देश नै भीतर ऐ भीतर वे चुटें।
पल पल रंग बदलें देख गिरगिट बी मुंह लकोग्या।।

गरीबां के मुंह का निवाला, शहीदां का कफ़न बेचें।
चंद सोने चाँदी के सिक्कां खातर अपना वतन बेचें।
आज़ादी का के फायदा जब भूखे मरदे लोग तन बेचें।
“”सुलक्षणा”” तेरा लिखना बदलाव का बीज बोग्या।।

379 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ सुलक्षणा अहलावत
View all
You may also like:
भगत सिंह ; जेल डायरी
भगत सिंह ; जेल डायरी
Gouri tiwari
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*** कभी-कभी.....!!! ***
*** कभी-कभी.....!!! ***
VEDANTA PATEL
■ मुक्तक और कटाक्ष...
■ मुक्तक और कटाक्ष...
*Author प्रणय प्रभात*
दृढ़ आत्मबल की दरकार
दृढ़ आत्मबल की दरकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मोबाईल नहीं
मोबाईल नहीं
Harish Chandra Pande
यारा  तुम  बिन गुजारा नही
यारा तुम बिन गुजारा नही
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2512.पूर्णिका
2512.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सागर की हिलोरे
सागर की हिलोरे
SATPAL CHAUHAN
चर्चित हो जाऊँ
चर्चित हो जाऊँ
संजय कुमार संजू
गज़ल सी रचना
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
मां के हाथ में थामी है अपने जिंदगी की कलम मैंने
मां के हाथ में थामी है अपने जिंदगी की कलम मैंने
कवि दीपक बवेजा
आया नववर्ष
आया नववर्ष
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आत्मनिर्भरता
आत्मनिर्भरता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विश्व शांति की करें प्रार्थना, ईश्वर का मंगल नाम जपें
विश्व शांति की करें प्रार्थना, ईश्वर का मंगल नाम जपें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Noone cares about your feelings...
Noone cares about your feelings...
Suryash Gupta
सावन में घिर घिर घटाएं,
सावन में घिर घिर घटाएं,
Seema gupta,Alwar
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
SPK Sachin Lodhi
तेरी खुशी
तेरी खुशी
Dr fauzia Naseem shad
उस पथ पर ले चलो।
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
सुनहरे सपने
सुनहरे सपने
Shekhar Chandra Mitra
माँ
माँ
ओंकार मिश्र
एहसान
एहसान
Paras Nath Jha
*धनतेरस का त्यौहार*
*धनतेरस का त्यौहार*
Harminder Kaur
अति वृष्टि
अति वृष्टि
लक्ष्मी सिंह
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
Vijay kumar Pandey
तुम चाहो तो मुझ से मेरी जिंदगी ले लो
तुम चाहो तो मुझ से मेरी जिंदगी ले लो
shabina. Naaz
धंधा चोखा जानिए, राजनीति का काम( कुंडलिया)
धंधा चोखा जानिए, राजनीति का काम( कुंडलिया)
Ravi Prakash
Loading...