Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

ऐसा खेलना होली तुम अपनों के संग ,

ऐसा खेलना होली तुम अपनों के संग ,
कभी ना उतरे चेहरे से होली का ये रंग

जमाने में हो ,चाहे लाखो रंग बिरंगे रंग
साथ निभाना ऐसा दिया बाती का संग

✍️कवि दीपक सरल

1 Like · 227 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"तिकड़मी दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रेल दुर्घटना
रेल दुर्घटना
Shekhar Chandra Mitra
वो तुम्हीं तो हो
वो तुम्हीं तो हो
Dr fauzia Naseem shad
जी रही हूँ
जी रही हूँ
Pratibha Pandey
*राजकली देवी शैक्षिक पुस्तकालय*
*राजकली देवी शैक्षिक पुस्तकालय*
Ravi Prakash
अपने चरणों की धूलि बना लो
अपने चरणों की धूलि बना लो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खत उसनें खोला भी नहीं
खत उसनें खोला भी नहीं
Sonu sugandh
" तुम्हारे इंतज़ार में हूँ "
Aarti sirsat
संकल्प
संकल्प
Vedha Singh
*माँ सरस्वती जी*
*माँ सरस्वती जी*
Rituraj shivem verma
पुष्प रुष्ट सब हो गये,
पुष्प रुष्ट सब हो गये,
sushil sarna
मैं नारी हूँ
मैं नारी हूँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
समय
समय
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
लगा चोट गहरा
लगा चोट गहरा
Basant Bhagawan Roy
आरुष का गिटार
आरुष का गिटार
shivanshi2011
आजकल
आजकल
Munish Bhatia
डोला कड़वा -
डोला कड़वा -
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रणचंडी बन जाओ तुम
रणचंडी बन जाओ तुम
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
Sanjay ' शून्य'
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
Rashmi Ranjan
स्त्री रहने दो
स्त्री रहने दो
Arti Bhadauria
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
सफर 👣जिंदगी का
सफर 👣जिंदगी का
डॉ० रोहित कौशिक
23/83.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/83.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
शेखर सिंह
ख़ुदा करे ये क़यामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
ख़ुदा करे ये क़यामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
HAPPINESS!
HAPPINESS!
R. H. SRIDEVI
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
Rj Anand Prajapati
Loading...