Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2018 · 1 min read

ए सनम ! तेरी याद में अब रोती नहीं हूँ मै –आर के रस्तोगी

ए सनम ! तेरी याद में अब रोती नहीं हूँ मै
तेरे गम में अपनी आँखे भिगोती नहीं हूँ मै

ए पत्थर के सनम ! दिल को पत्थर बना लिया है मैंने
जिसको माना था भगवान,उसको अब पूजती नहीं हूँ मै

बहाये थे जिन आँखों से आँसू,उनको बंद कर लिया है मैंने
अगर ख़ुदा भी आ जाये, उसके लिये भी खोलती नहीं हूँ मै

सोती नहीं थी जिसकी याद में,उन नैनो को समझा लिया है मैंने
ढूंढ ले कोई नया दिलवर,अब उनको खोजती नहीं हूँ मै

गमे-दर्द हद से गुजर चूका है,उसे दवा बना लिया है मैंने
इस गम के इलाज के लिये,किसी वैध हकीम को ढूँढती नहीं हूँ मै

किस आशिक के गम में ये हाल, बेहाल बना लिया है मैंने
लाख पूछे कोंई नाम उसका मुझ से,किसी को बताती नहीं हूँ मै

गमे-हालात देखकर,अब कुछ बयाँ कर दिया है “रस्तोगी” ने
पूछा सौ बार गमे-हालात सभी ने,किसी को बताती नहीं हूँ मै

आर के रस्तोगी

269 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
करारा नोट
करारा नोट
Punam Pande
संवेदनाएं जिंदा रखो
संवेदनाएं जिंदा रखो
नेताम आर सी
कोशिश बहुत करता हूं कि दर्द ना छलके
कोशिश बहुत करता हूं कि दर्द ना छलके
इंजी. संजय श्रीवास्तव
" लहर लहर लहराई तिरंगा "
Chunnu Lal Gupta
अभ्यर्थी हूँ
अभ्यर्थी हूँ
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
अन्नदाता किसान
अन्नदाता किसान
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
Lokesh Sharma
*कहर  है हीरा*
*कहर है हीरा*
Kshma Urmila
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
Sunil Suman
सूझ बूझ
सूझ बूझ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
करूँ प्रकट आभार।
करूँ प्रकट आभार।
Anil Mishra Prahari
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
Vedha Singh
*पियक्कड़* (हास्य कुंडलिया)
*पियक्कड़* (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
2587.पूर्णिका
2587.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बदरा को अब दोष ना देना, बड़ी देर से बारिश छाई है।
बदरा को अब दोष ना देना, बड़ी देर से बारिश छाई है।
Manisha Manjari
*The Bus Stop*
*The Bus Stop*
Poonam Matia
स्वर्ग से सुंदर अपना घर
स्वर्ग से सुंदर अपना घर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Please Help Me...
Please Help Me...
Srishty Bansal
दिल ये इज़हार कहां करता है
दिल ये इज़हार कहां करता है
Surinder blackpen
स्नेह
स्नेह
Shashi Mahajan
बहुत ढूंढा बाजार में यूं कुछ अच्छा ले आएं,
बहुत ढूंढा बाजार में यूं कुछ अच्छा ले आएं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"चार पैरों वाला मेरा यार"
Lohit Tamta
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
लक्ष्मी सिंह
"गीत"
Dr. Kishan tandon kranti
चिंता दर्द कम नहीं करती, सुकून जरूर छीन लेती है ।
चिंता दर्द कम नहीं करती, सुकून जरूर छीन लेती है ।
पूर्वार्थ
सहारे
सहारे
Kanchan Khanna
कभी खामोश रहता है, कभी आवाज बनता है,
कभी खामोश रहता है, कभी आवाज बनता है,
Rituraj shivem verma
Loading...