Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2019 · 1 min read

एहसास

मैं जिंदा हूँ शब्दों के भीतर
यह एहसास हो रहा है खुद को,
न जाने कितने तूफ़ान मचे हैं
दिल के नाजुक कोने में मेरे,
हमेशा मेरी कलम संभाल लेती है
शब्दों की नाव में सहारा देकर,
कितना कुछ है कहना !
कितना है सुनाना,
शब्द नहीं बन पाए
वह मुस्कुराहटों में,मौन में,
कभी आंसुओं के सैलाब में,
उन एहसासों को बहा देता है
नई जन्म लेती रूहानी संवेदनाएं
कभी तड़पती, मचलती, कभी शोर करती
शब्द ही सहारा है…..
सच है !
मैं जिंदा हूँ शब्दों के भीतर
यह एहसास हो रहा है खुद को!

Language: Hindi
3 Likes · 3 Comments · 515 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kalpana Gavli
View all
You may also like:
चॉंद और सूरज
चॉंद और सूरज
Ravi Ghayal
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
Acharya Rama Nand Mandal
“ इन लोगों की बात सुनो”
“ इन लोगों की बात सुनो”
DrLakshman Jha Parimal
हादसें पूंछ कर न आएंगे
हादसें पूंछ कर न आएंगे
Dr fauzia Naseem shad
हुई बरसात टूटा इक पुराना, पेड़ था आख़िर
हुई बरसात टूटा इक पुराना, पेड़ था आख़िर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भ्रम
भ्रम
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
श्रीराम वन में
श्रीराम वन में
नवीन जोशी 'नवल'
सपनों का शहर
सपनों का शहर
Shekhar Chandra Mitra
नसीब में था अकेलापन,
नसीब में था अकेलापन,
Umender kumar
Ignorance is the best way to hurt someone .
Ignorance is the best way to hurt someone .
Sakshi Tripathi
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आग से जल कर
आग से जल कर
हिमांशु Kulshrestha
जीवन भर चलते रहे,
जीवन भर चलते रहे,
sushil sarna
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
Arvind trivedi
"मुशाफिर हूं "
Pushpraj Anant
मेरी कविताएं पढ़ लेना
मेरी कविताएं पढ़ लेना
Satish Srijan
मेरे मन का सीजन थोड़े बदला है
मेरे मन का सीजन थोड़े बदला है
Shiva Awasthi
कैसा क़हर है क़ुदरत
कैसा क़हर है क़ुदरत
Atul "Krishn"
*स्वर्ग में सबको मिला तन, स्वस्थ और जवान है 【गीतिका】*
*स्वर्ग में सबको मिला तन, स्वस्थ और जवान है 【गीतिका】*
Ravi Prakash
रख धैर्य, हृदय पाषाण  करो।
रख धैर्य, हृदय पाषाण करो।
अभिनव अदम्य
151…. सहयात्री (राधेश्यामी छंद)
151…. सहयात्री (राधेश्यामी छंद)
Rambali Mishra
प्रभु श्री राम
प्रभु श्री राम
Mamta Singh Devaa
ये जो फेसबुक पर अपनी तस्वीरें डालते हैं।
ये जो फेसबुक पर अपनी तस्वीरें डालते हैं।
Manoj Mahato
खुश वही है , जो खुशियों को खुशी से देखा हो ।
खुश वही है , जो खुशियों को खुशी से देखा हो ।
Nishant prakhar
जी चाहता है रूठ जाऊँ मैं खुद से..
जी चाहता है रूठ जाऊँ मैं खुद से..
शोभा कुमारी
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
उम्मीद
उम्मीद
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वो खुशनसीब थे
वो खुशनसीब थे
Dheerja Sharma
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
Dr Tabassum Jahan
■ आज के दोहे...
■ आज के दोहे...
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...