Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Feb 28, 2019 · 1 min read

एहसास

मैं जिंदा हूँ शब्दों के भीतर
यह एहसास हो रहा है खुद को,
न जाने कितने तूफ़ान मचे हैं
दिल के नाजुक कोने में मेरे,
हमेशा मेरी कलम संभाल लेती है
शब्दों की नाव में सहारा देकर,
कितना कुछ है कहना !
कितना है सुनाना,
शब्द नहीं बन पाए
वह मुस्कुराहटों में,मौन में,
कभी आंसुओं के सैलाब में,
उन एहसासों को बहा देता है
नई जन्म लेती रूहानी संवेदनाएं
कभी तड़पती, मचलती, कभी शोर करती
शब्द ही सहारा है…..
सच है !
मैं जिंदा हूँ शब्दों के भीतर
यह एहसास हो रहा है खुद को!

3 Likes · 3 Comments · 231 Views
You may also like:
ये जमीं आसमां।
Taj Mohammad
ख्वाब को बाँध दो
Anamika Singh
अकड़
साहित्य गौरव
विवश मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
प्यार करते हो मुझे तुम तो यही उपहार देना
Shivkumar Bilagrami
कभी न करना उससे, उसकी नेमतों का गिला ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️वो उड़ते रहता है✍️
'अशांत' शेखर
" नाखून "
Dr Meenu Poonia
महापंडित ठाकुर टीकाराम
श्रीहर्ष आचार्य
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
बेमकसद जिंदगी।
Taj Mohammad
कुछ ना रहा
Nitu Sah
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज के
Dr fauzia Naseem shad
✍️दिशाभूल✍️
'अशांत' शेखर
मां के तट पर
जगदीश लववंशी
# महकता बदन #
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
# क्रांति का वो दौर
Seema 'Tu haina'
✍️खुशी✍️
'अशांत' शेखर
"दोस्त"
Lohit Tamta
"मैं फ़िर से फ़ौजी कहलाऊँगा"
Lohit Tamta
पर्यावरण
Vijaykumar Gundal
ओ जानें ज़ाना !
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
गज़ल
Saraswati Bajpai
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शाइ'राना है तबीयत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्यारी मेरी बहना
Buddha Prakash
✍️चीरफाड़✍️
'अशांत' शेखर
*प्रिय सावन में मतवाली (गीतिका)*
Ravi Prakash
जितनी बार निहारा उसको
Shivkumar Bilagrami
Loading...