Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2024 · 1 min read

एहसासे- नमी (कविता)

एहसासे- नमी

माना आज अश्कों में निर है
मॉम से पिघल रही हूं
मगर
आएगा एक दिन वो भी
कि एहसास सीने में दफन हो जाएंगे
बन जाऊंगी मैं भी पत्थर
जिसके निशाँ तो होंगे
मगर दर्द नहीं होगा
माना आज तेरी दोस्ती में
हल्की-हल्की टूट रही हूं मैं
मगर
आएगा एक दिन वो भी
टूटूंगी ऐसा कभी जुड़ ना पाऊंगी मैं आंखों में बहता नीर सूख जाएगा रेगिस्तान में रेत की तरह
ना बच पाएगी इसमें रिश्तो की नमी
बस सूख जाएगा
एक दिन यह भी
जिसमें ना बचेगी कोई एहसास -ए नमी

1 Like · 32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो परिंदा, है कर रहा देखो
वो परिंदा, है कर रहा देखो
Shweta Soni
प्रभु का प्राकट्य
प्रभु का प्राकट्य
Anamika Tiwari 'annpurna '
3278.*पूर्णिका*
3278.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
Pramila sultan
मुक्तक - जिन्दगी
मुक्तक - जिन्दगी
sushil sarna
"" *स्वस्थ शरीर है पावन धाम* ""
सुनीलानंद महंत
बेरंग दुनिया में
बेरंग दुनिया में
पूर्वार्थ
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
Manoj Mahato
आज देव दीपावली...
आज देव दीपावली...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सबकी जात कुजात
सबकी जात कुजात
मानक लाल मनु
फितरत ना बदल सका
फितरत ना बदल सका
goutam shaw
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
Keshav kishor Kumar
कैसे कहूँ ‘आनन्द‘ बनने में ज़माने लगते हैं
कैसे कहूँ ‘आनन्द‘ बनने में ज़माने लगते हैं
Anand Kumar
आभार
आभार
Sanjay ' शून्य'
आंसूओं की नमी का क्या करते
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
गुप्तरत्न
जीवन एक यथार्थ
जीवन एक यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
*प्रभु नहीं मिलते हैं पोथियों को पढ़-पढ़【 घनाक्षरी 】*
*प्रभु नहीं मिलते हैं पोथियों को पढ़-पढ़【 घनाक्षरी 】*
Ravi Prakash
तुम
तुम
Punam Pande
// दोहा ज्ञानगंगा //
// दोहा ज्ञानगंगा //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल _मुहब्बत के मोती , चुराए गए हैं ।
ग़ज़ल _मुहब्बत के मोती , चुराए गए हैं ।
Neelofar Khan
आसमाँ के परिंदे
आसमाँ के परिंदे
VINOD CHAUHAN
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"मंजिलें"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन ज्योति
जीवन ज्योति
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ज़िन्दगी एक उड़ान है ।
ज़िन्दगी एक उड़ान है ।
Phool gufran
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
महान क्रांतिवीरों को नमन
महान क्रांतिवीरों को नमन
जगदीश शर्मा सहज
हिदायत
हिदायत
Bodhisatva kastooriya
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...