Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-354💐

एहसान हो रहा है क्या,तस्वीर भेजकर,
क्या है वो,जो दिल में रखा है सहेजकर,
मत देखना कभी तुम मेरे चेहरे को सुनो,
भगा देना मुझे अपने कूचे से धकेलकर।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"लक्ष्मण-रेखा"
Dr. Kishan tandon kranti
रास नहीं आती ये सर्द हवाएं
रास नहीं आती ये सर्द हवाएं
कवि दीपक बवेजा
आज
आज
Shyam Sundar Subramanian
करुणामयि हृदय तुम्हारा।
करुणामयि हृदय तुम्हारा।
Buddha Prakash
ग़ुमनाम जिंदगी
ग़ुमनाम जिंदगी
Awadhesh Kumar Singh
Kash hum marj ki dava ban sakte,
Kash hum marj ki dava ban sakte,
Sakshi Tripathi
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
वैभव बेख़बर
💐प्रेम कौतुक-418💐
💐प्रेम कौतुक-418💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हवाएँ
हवाएँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ख़ामोश निगाहें
ख़ामोश निगाहें
Surinder blackpen
निरापद  (कुंडलिया)*
निरापद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तस्वीर जो हमें इंसानियत का पाठ पढ़ा जाती है।
तस्वीर जो हमें इंसानियत का पाठ पढ़ा जाती है।
Abdul Raqueeb Nomani
पहलवान बहनो के समर्थन में ..... ✍️
पहलवान बहनो के समर्थन में ..... ✍️
Kailash singh
अज़ाँ दिलों की मसाजिद में हो रही है 'अनीस'
अज़ाँ दिलों की मसाजिद में हो रही है 'अनीस'
Anis Shah
तुम तो मुठ्ठी भर हो, तुम्हारा क्या, हम 140 करोड़ भारतीयों का भाग्य उलझ जाएगा
तुम तो मुठ्ठी भर हो, तुम्हारा क्या, हम 140 करोड़ भारतीयों का भाग्य उलझ जाएगा
Anand Kumar
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
سیکھ لو
سیکھ لو
Ahtesham Ahmad
मुझको शिकायत है
मुझको शिकायत है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" तुम्हारे इंतज़ार में हूँ "
Aarti sirsat
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
बुझी राख
बुझी राख
Vindhya Prakash Mishra
"औरत”
Dr Meenu Poonia
It is good that it is bad. It could have been worse.
It is good that it is bad. It could have been worse.
Dr. Rajiv
काम दो इन्हें
काम दो इन्हें
Shekhar Chandra Mitra
दुर्गा माँ
दुर्गा माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
Vishal babu (vishu)
मोर
मोर
Manu Vashistha
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
Dr fauzia Naseem shad
Loading...