Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2019 · 1 min read

भारत का एयर स्ट्राइक

बंद कलम को मिल गई, ताजी नई खुराक।
कानों में जैसे पड़ा, छप्पन इंची धाक।।

मंगल ही मंगल रहा, शुभ मंगल है आज।
गढ़ दुश्मन का हिल गया, ढ़ाया कहर मिराज।।

नवल हर्ष उल्लास का, आज वीरता पर्व।
वीर सैनिकों पर हमें, सदा रहेगा गर्व।।

पवन पुत्र हनुमान जी, गोले उगले आज।
मोदी जी ने कर दिया,रिपु का उचित इलाज।।

दुश्मन की लंका जला,घर आये बजरंग।
सदमे में लाहौर है, पेशावर है दंग।।

जख्मों को मरहम लगा, गर्वित माँ का भाल।
भारत माँ के शेर ने, रिपु को किया हलाल।।

दुखते घावों को मिला, अब थोड़ा आराम।
वायु सैनिकों आपको, सादर कोटि प्रणाम।।

नमन शहीदों को करो, सेना की जयकार।
घुस कर पाकिस्तान में, किया शत्रु को क्षार।।

जय मोदी जी बोलिये, जय भारत सरकार।
दुश्मन को दहला दिया, ऐसा किया प्रहार।।

-लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
1 Like · 209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
उसकी गली से गुजरा तो वो हर लम्हा याद आया
उसकी गली से गुजरा तो वो हर लम्हा याद आया
शिव प्रताप लोधी
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
Phool gufran
योग
योग
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मेरे राम
मेरे राम
Prakash Chandra
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
शेखर सिंह
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
हे चाणक्य चले आओ
हे चाणक्य चले आओ
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जीवन
जीवन
Mangilal 713
---माँ---
---माँ---
Rituraj shivem verma
हे मात भवानी...
हे मात भवानी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज़िदगी के फ़लसफ़े
ज़िदगी के फ़लसफ़े
Shyam Sundar Subramanian
किसी को जिंदगी लिखने में स्याही ना लगी
किसी को जिंदगी लिखने में स्याही ना लगी
कवि दीपक बवेजा
गर्व की बात
गर्व की बात
इंजी. संजय श्रीवास्तव
अछय तृतीया
अछय तृतीया
Bodhisatva kastooriya
गांधीजी का भारत
गांधीजी का भारत
विजय कुमार अग्रवाल
*तुम और  मै धूप - छाँव  जैसे*
*तुम और मै धूप - छाँव जैसे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वह फूल हूँ
वह फूल हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"आजादी के दीवाने"
Dr. Kishan tandon kranti
#व्यंग्य-
#व्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
आओ बैठें ध्यान में, पेड़ों की हो छाँव ( कुंडलिया )
आओ बैठें ध्यान में, पेड़ों की हो छाँव ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
कैसे गाएँ गीत मल्हार
कैसे गाएँ गीत मल्हार
संजय कुमार संजू
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
हिन्दुस्तान जहाँ से अच्छा है
हिन्दुस्तान जहाँ से अच्छा है
Dinesh Kumar Gangwar
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
कवि रमेशराज
सरयू
सरयू
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मन राम हो जाना ( 2 of 25 )
मन राम हो जाना ( 2 of 25 )
Kshma Urmila
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
धर्म बनाम धर्मान्ध
धर्म बनाम धर्मान्ध
Ramswaroop Dinkar
एहसास दे मुझे
एहसास दे मुझे
Dr fauzia Naseem shad
Loading...