Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 16, 2019 · 1 min read

एतबार मांगा था

हमने दिल का करार मांगा था
अपने हिस्से का प्यार माँगा था।

भूले थे हम तो सब गिले शिकवे
तू भी हो खुश गवार माँगा था।

सहरा में फिर से खिल उठें कलियाँ
हमने बाग़े बहार मांगा था।

तू तो गद्दार बगल में निकला
हमने तो एतबार मांगा था ।

यूँ ही खुश हो रहें मेरे अपने
हमने यह बार बार मांगा था।

रंजना माथुर
अजमेर (राजस्थान )
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

1 Like · 123 Views
You may also like:
शोहरत और बंदर
सूर्यकांत द्विवेदी
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
हक़ीक़त न पूछिए
Dr fauzia Naseem shad
✍️हम भारतवासी✍️
'अशांत' शेखर
तेरी रहबरी जहां में अच्छी लगे।
Taj Mohammad
The shade of 'Bodhi Tree'
Buddha Prakash
'शान उनकी'
Godambari Negi
Gazal
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
🌺🍀परिश्रम: प्रकृत्या सम्बन्धेन भवति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बहुत हैं फायदे तुमको बतायेंगे मुहब्बत से।
सत्य कुमार प्रेमी
मेहनत का फल
Buddha Prakash
मेरी जिन्दगी से।
Taj Mohammad
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आजादी का दौर
Seema Tuhaina
गुरूर का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
वादी ए भोपाल हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
“सराय का मुसाफिर”
DESH RAJ
*यात्रा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
डिजिटल इंडिया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मंज़िल मौत है तो जिंदगी एक सफ़र है
Krishan Singh
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
'अशांत' शेखर
गीत- अमृत महोत्सव आजादी का...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुस्कुराइये.....
Chandra Prakash Patel
भाइयों के बीच प्रेम, प्रतिस्पर्धा और औपचारिकताऐं
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दोस्त हो जो मेरे पास आओ कभी।
सत्य कुमार प्रेमी
आज़ादी का अमृत महोत्सव
बिमल तिवारी आत्मबोध
विश्व जनसंख्या दिवस
Ram Krishan Rastogi
Loading...