Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2018 · 1 min read

एक हास्य व व्यंग कविता –आर के रस्तोगी

पेट्रोल के दाम बढ़ रहे
फिर भी वाहन चल रहे

महंगाई भी रोजना बाद रही
फिर भी लोग होटल में खा रहे

सत्ता के सब लालची हो रहे
देश को भाड में झोक रहे

नेता आपस में लड़ रहे
जनता को एकता का सबक दे रहे

जो कभी आपस में दुश्मन थे
आज वे आपस में गले मिल रहे

जनता कवि सम्मेलनों में आ नही रही
कविता गजल लोगो को भा नहीं रही

बेटा बाप की सुनता नहीं
बाप भी अब मिलता नही

पत्नि मायके जाती नहीं
गर्ल फ्रेंड भी फसती नहीं

बडो घर के रिश्ते अब टिकते नहीं
लडकियों के बदन पर कपड़े टिकते नहीं

आर के रस्तोगी

Language: Hindi
594 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है
फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है
Smriti Singh
किताब
किताब
Neeraj Agarwal
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
हे परमपिता मिले हमसफ़र जो हर इक सफ़र में भी साथ दे।
हे परमपिता मिले हमसफ़र जो हर इक सफ़र में भी साथ दे।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम ऐसे उम्मीद किसी से, कभी नहीं किया करो
तुम ऐसे उम्मीद किसी से, कभी नहीं किया करो
gurudeenverma198
काफ़ी कुछ लिखकर मिटा दिया गया ;
काफ़ी कुछ लिखकर मिटा दिया गया ;
ओसमणी साहू 'ओश'
नमस्ते! रीति भारत की,
नमस्ते! रीति भारत की,
Neelam Sharma
उसने आंखों में
उसने आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम छिपाये ना छिपे
प्रेम छिपाये ना छिपे
शेखर सिंह
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
इस जीवन के मधुर क्षणों का
इस जीवन के मधुर क्षणों का
Shweta Soni
"डर"
Dr. Kishan tandon kranti
पिता के नाम पुत्री का एक पत्र
पिता के नाम पुत्री का एक पत्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
#जालसाज़ों_की_दुनिया_में 😢😢
#जालसाज़ों_की_दुनिया_में 😢😢
*प्रणय प्रभात*
मतलबी इंसान हैं
मतलबी इंसान हैं
विक्रम कुमार
*जाऍं यात्रा में कभी, रखें न्यूनतम पास (कुंडलिया)*
*जाऍं यात्रा में कभी, रखें न्यूनतम पास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पर को दुख दे सुख जिन्हें, सुखी रहें वे लोग।
पर को दुख दे सुख जिन्हें, सुखी रहें वे लोग।
डॉ.सीमा अग्रवाल
LOVE
LOVE
SURYA PRAKASH SHARMA
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दादाजी ने कहा था
दादाजी ने कहा था
Shashi Mahajan
*दीपक सा मन* ( 22 of 25 )
*दीपक सा मन* ( 22 of 25 )
Kshma Urmila
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
❤️एक अबोध बालक ❤️
❤️एक अबोध बालक ❤️
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
ruby kumari
अपना गाँव
अपना गाँव
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
Anand Kumar
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
3663.💐 *पूर्णिका* 💐
3663.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
Loading...