Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

एक सपना देखा था

तुम्हे पता नही मै कौन
मै तो चाहता था तुम्हें
तेरी फोटो देखी, वीडियो देखी
तू मेरी मै तेरा था
एक सपना देखा था….

नाम पता था, ढंग पता था
चीनी जैसी मीठी लगती
तेरे पास लोग आए और गये
बिल्कुल अच्छा नहीं लगता था
तू मेरी मै तेरा था
एक सपना देखा था…..

कहने की हिम्मत थी नही
तो लिख कर कह दिया
दिनो बाद जवाब आया
न हा, न ना लिखा था,
तू मेरी मै तेरा था
एक सपना देखा था….

कुछ देखा ऐसा, रोना आया
आंख बंद और मुंह खुल गया
हुआ ऐसा संभल न पाया
अच्छा है,
एक सपना देखा था….

ऐसा दिन आए कभी न
पर ये तो अंतिम सच है
पता नहीं संभल पाऊंगा या नही
लिखते हुए भी रोता था
अच्छा है,
एक सपना देखा था….

79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
Priya princess panwar
*मिले हमें गुरुदेव खुशी का, स्वर्णिम दिन कहलाया 【हिंदी गजल/ग
*मिले हमें गुरुदेव खुशी का, स्वर्णिम दिन कहलाया 【हिंदी गजल/ग
Ravi Prakash
आँख
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
"शिक्षक"
Dr. Kishan tandon kranti
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
Writer_ermkumar
अब किसका है तुमको इंतजार
अब किसका है तुमको इंतजार
gurudeenverma198
सवाल ये नहीं
सवाल ये नहीं
Dr fauzia Naseem shad
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
कवि दीपक बवेजा
अमृत महोत्सव आजादी का
अमृत महोत्सव आजादी का
लक्ष्मी सिंह
मायका
मायका
Mukesh Kumar Sonkar
शेष
शेष
Dr.Priya Soni Khare
3201.*पूर्णिका*
3201.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
రామయ్య మా రామయ్య
రామయ్య మా రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
पारख पूर्ण प्रणेता
पारख पूर्ण प्रणेता
प्रेमदास वसु सुरेखा
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
आर.एस. 'प्रीतम'
हास्य व्यंग्य
हास्य व्यंग्य
प्रीतम श्रावस्तवी
नैह
नैह
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वो सुहानी शाम
वो सुहानी शाम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
पूर्वार्थ
बूझो तो जानें (मुक्तक)
बूझो तो जानें (मुक्तक)
पंकज कुमार कर्ण
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
Manoj Mahato
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
सच्ची बकरीद
सच्ची बकरीद
Satish Srijan
चार पैसे भी नही....
चार पैसे भी नही....
Vijay kumar Pandey
कुछ बात थी
कुछ बात थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
😊 आत्मकथा / 55वी सालगिरह पर
😊 आत्मकथा / 55वी सालगिरह पर
*Author प्रणय प्रभात*
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...