Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2023 · 1 min read

एक सच

सच और शब्दों के मेल बहुत मुश्किल होते हैं।

इस दुनिया में राजनीति के हमसफ़र सब होते हैं।

समाज में हम सभी के साथ साथ चलते हैं।

हकीकत में न समाज न रिश्ते नाते सच होते हैं।

आज अपने पराए और पराए अपने होते हैं।

सोच ऐसी आज हमारी मन में रहतीं हैं।

बस मुस्कुराती जिंदगी मन भावों में सच रहते हैं।

जिंदगी रंगमंच पर एक किरदार निभाती हैं।

हम सभी अपने जीवन को सफल बनाते हैं।

हां हमसफ़र और हम दोनों अकेले ही रह जाते हैं।

Language: Hindi
78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इश्क की वो  इक निशानी दे गया
इश्क की वो इक निशानी दे गया
Dr Archana Gupta
आँखें
आँखें
Neeraj Agarwal
बढ़ती हुई समझ
बढ़ती हुई समझ
शेखर सिंह
3313.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3313.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
-        🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
- 🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
Mahima shukla
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एहसास.....
एहसास.....
Harminder Kaur
अमिट सत्य
अमिट सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
Sometimes you have to
Sometimes you have to
Prachi Verma
बचपन
बचपन
नूरफातिमा खातून नूरी
शेष न बचा
शेष न बचा
Er. Sanjay Shrivastava
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Harish Chandra Pande
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
Shweta Soni
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
पूर्वार्थ
क्या कहुं ऐ दोस्त, तुम प्रोब्लम में हो, या तुम्हारी जिंदगी
क्या कहुं ऐ दोस्त, तुम प्रोब्लम में हो, या तुम्हारी जिंदगी
लक्की सिंह चौहान
'लक्ष्य-1'
'लक्ष्य-1'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
I am Me - Redefined
I am Me - Redefined
Dhriti Mishra
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
Dr MusafiR BaithA
पौधरोपण
पौधरोपण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*रावण आया सिया चुराने (कुछ चौपाइयॉं)*
*रावण आया सिया चुराने (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
मेरी बात अलग
मेरी बात अलग
Surinder blackpen
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
" प्यार के रंग" (मुक्तक छंद काव्य)
Pushpraj Anant
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
सोच
सोच
Sûrëkhâ
न पाने का गम अक्सर होता है
न पाने का गम अक्सर होता है
Kushal Patel
..........अकेला ही.......
..........अकेला ही.......
Naushaba Suriya
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...