Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

***** एक मुक्तक : श्रृंगारिक दर्शन *****

***** एक मुक्तक : श्रृंगारिक दर्शन *****
एक तरफ तो अर्द्ध नग्नता थी, एक तरफ था पूर्ण लिबास,
मन की आँखें अर्द्ध नग्नता पर, दिल ये पूजे पूर्ण लिबास,
मन तो चंचल तितली सा होता, दिल सागर सा होय विशाल,
इस मन की छोड़ो, दिल की मानो,सद्जीवन का यही विकास,
******* सुरेशपाल वर्मा जसाला

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
252 Views
You may also like:
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
दर्द
Buddha Prakash
आता है याद सबको ही बरसात में छाता।
सत्य कुमार प्रेमी
है सुकूँ से भरा एक घर ज़िन्दगी
Dr Archana Gupta
■ इन दिनों...
*Author प्रणय प्रभात*
दीपावली :दोहे
Sushila Joshi
“दिव्य दर्शन देवभूमि का” ( यात्रा -संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
✍️13/07 (तेरा साथ)✍️
'अशांत' शेखर
सुई-धागा को बनाया उदरपोषण का जरिया
Shyam Hardaha
" नोट "
Dr Meenu Poonia
मौसम बेईमान है आजकल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ख्वाब हो गए वो दिन
shabina. Naaz
इजाजत है अगर मुझे प्यार करने की
Ram Krishan Rastogi
चापलूसी का ईनाम
Shekhar Chandra Mitra
मौत के सामने सब बेबस है
Anamika Singh
तुममें हममें कुछ तो मुख्तलिफ बातें हैं।
Taj Mohammad
काश तू मौन रहता
Pratibha Kumari
" सिनेमा को दरक़ार है अब सुपरहिट गीतों की "...
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
कितने सावन बीते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
ढलती जाती ज़िन्दगी
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
राजनीति मे दलबदल
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बोलती तस्वीर
राकेश कुमार राठौर
نظریں بتا رہی ہیں تمھیں مجھ سے پیار ہے۔
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
अगर मेरे साथ यह नहीं किया होता तूने
gurudeenverma198
जनता देख रही है खड़ी खड़ी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
* मनवा क्युं दुखियारा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुकबल ख्वाब करने हैं......
कवि दीपक बवेजा
*दस फिट की माला (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...