Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 1 min read

एक बेहतर जिंदगी का ख्वाब लिए जी रहे हैं सब

एक बेहतर जिंदगी का ख्वाब , लिए जी रहे हैं सब
ना जाने क्यों खुद को समझाये, जा रहे हैं सब l

हर पल जिंदगी का, हुए जा रहा है नासूर
तरक्की के नाम पर, खुद को भटकाये जा रहे हैं सब l

2 Likes · 118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
बचा ले मुझे🙏🙏
बचा ले मुझे🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बादलों की उदासी
बादलों की उदासी
Shweta Soni
उनकी उल्फत देख ली।
उनकी उल्फत देख ली।
सत्य कुमार प्रेमी
अधूरापन
अधूरापन
Rohit yadav
5-सच अगर लिखने का हौसला हो नहीं
5-सच अगर लिखने का हौसला हो नहीं
Ajay Kumar Vimal
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
Ms.Ankit Halke jha
"ऐ जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
इंसान जिन्हें
इंसान जिन्हें
Dr fauzia Naseem shad
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
gurudeenverma198
किया है तुम्हें कितना याद ?
किया है तुम्हें कितना याद ?
The_dk_poetry
विद्याधन
विद्याधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
हिंदी क्या है
हिंदी क्या है
Ravi Shukla
सत्य को सूली
सत्य को सूली
Shekhar Chandra Mitra
होता सब चाहे रहे , बाहर में प्रतिकूल (कुंडलियां)
होता सब चाहे रहे , बाहर में प्रतिकूल (कुंडलियां)
Ravi Prakash
9. पोंथी का मद
9. पोंथी का मद
Rajeev Dutta
प्रायश्चित
प्रायश्चित
Shyam Sundar Subramanian
" अब कोई नया काम कर लें "
DrLakshman Jha Parimal
ऐसा क्यों होता है
ऐसा क्यों होता है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
लहसुन
लहसुन
आकाश महेशपुरी
चन्द्रयान..…......... चन्द्रमा पर तिरंगा
चन्द्रयान..…......... चन्द्रमा पर तिरंगा
Neeraj Agarwal
अनमोल जीवन
अनमोल जीवन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चुल्लू भर पानी में
चुल्लू भर पानी में
Satish Srijan
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
पूर्वार्थ
Ye chad adhura lagta hai,
Ye chad adhura lagta hai,
Sakshi Tripathi
#महसूस_करें...
#महसूस_करें...
*Author प्रणय प्रभात*
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2428.पूर्णिका
2428.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...