Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

एक बार फिर ।

एक बार फिर थामाँ है हाथ मेरा तुमने
गिरते लड़खड़ाते कदमो को मेरे, सराहा है तुमने
अतीत की परछाइयों ने घेरा जब मुझको
अंधेरो से लड़ना सिखाया है तुमने।
भविष्य की गहराइयों में डूबा जब मन मेरा
गोते लगा, तैरना सिखाया है तुमने
रौशनी का हर गीत गुनगुनाया है तुमने
एक बार फिर थाम है हाथ मेरा तुमने ।

गहरे हैं राज़, इस कम्बख़्त ज़िन्दगी में
पर्दो के बीच झरोखे बनाएं भी है तुमने
अंधियारे दिन और स्याह रातों को भी
लोरी सुनाकर सुलाया है तुमने
नारंगी शामों को मेरी, आवाज़ दी है तुमने
फिर रौशनी का दीपक भी जलाया है तुमने
एक बार फिर, थामा है हाथ मेरा, तुमने।

कठिन थी राहें, जटिल थे रास्ते
राहगीर बन साथ निभाया है तुमने
गहरे सागर का साहिल बन दिखाया है तुमने
ऊँचे पर्वत की चोटी पर चढ़ना सिखाया है तुमने
कदम जो फिसले, मुझको भी थामा है तुमने
एक बार फिर थामा है हाथ मेरा तुमने।

कांटे थे फूलों संग जीवन के उपवन में
कांटे छोड़, फूलों की महक बनना सिखाया है तुमने
ज़रा भीगी हैं पलकें तो क्या
उनमे इंद्र धनुष भी दिखाया है तुमने
एक बार फिर थाम है हाथ मेरा तुमने ।

236 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dhriti Mishra
View all
You may also like:
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अच्छे दामों बिक रहे,
अच्छे दामों बिक रहे,
sushil sarna
बघेली कविता -
बघेली कविता -
Priyanshu Kushwaha
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
Paras Nath Jha
कि लड़का अब मैं वो नहीं
कि लड़का अब मैं वो नहीं
The_dk_poetry
'Here's the tale of Aadhik maas..' (A gold winning poem)
'Here's the tale of Aadhik maas..' (A gold winning poem)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*जानो होता है टिकट, राजनीति का सार (कुंडलिया)*
*जानो होता है टिकट, राजनीति का सार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बेख़बर
बेख़बर
Shyam Sundar Subramanian
जब प्रेम की परिणति में
जब प्रेम की परिणति में
Shweta Soni
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
Surinder blackpen
Kabhi kitabe pass hoti hai
Kabhi kitabe pass hoti hai
Sakshi Tripathi
तमाम कोशिशें की, कुछ हाथ ना लगा
तमाम कोशिशें की, कुछ हाथ ना लगा
कवि दीपक बवेजा
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
ruby kumari
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
तुलना से इंकार करना
तुलना से इंकार करना
Dr fauzia Naseem shad
(25) यह जीवन की साँझ, और यह लम्बा रस्ता !
(25) यह जीवन की साँझ, और यह लम्बा रस्ता !
Kishore Nigam
वो गुलमोहर जो कभी, ख्वाहिशों में गिरा करती थी।
वो गुलमोहर जो कभी, ख्वाहिशों में गिरा करती थी।
Manisha Manjari
साजिशन दुश्मन की हर बात मान लेता है
साजिशन दुश्मन की हर बात मान लेता है
Maroof aalam
■ नज़्म (ख़ुदा करता कि तुमको)
■ नज़्म (ख़ुदा करता कि तुमको)
*Author प्रणय प्रभात*
अभिनय से लूटी वाहवाही
अभिनय से लूटी वाहवाही
Nasib Sabharwal
कलयुग मे घमंड
कलयुग मे घमंड
Anil chobisa
बन जाने दो बच्चा मुझको फिर से
बन जाने दो बच्चा मुझको फिर से
gurudeenverma198
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Ritu Asooja
हे देवाधिदेव गजानन
हे देवाधिदेव गजानन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ तुझे प्रणाम
माँ तुझे प्रणाम
Sumit Ki Kalam Se Ek Marwari Banda
गंदा धंधा
गंदा धंधा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मस्तमौला फ़क़ीर
मस्तमौला फ़क़ीर
Shekhar Chandra Mitra
प्रणय 9
प्रणय 9
Ankita Patel
Loading...