एक बात बता जिन्दगी

अच्छा एक बात बता ज़िन्दगी,
मेरी उदासी कभी तुझे भी उदास करती है?
अगर उदास करती है,
तो क्यों मुझे उदासियाँ देती है,
मेरा टूटना तुझे भी बिखेर देता है?
अगर बिखेरता है तो क्यों मुझे टूटने देती है,
आसुओ का तुझे कुछ फर्क पड़ता है?
अगर फर्क पड़ता है,
तो क्यों मुझे आंसू देती है,
मेरा दिल टूटने से तेरे दिल में टीस उठती है?
अगर टीस उठती है, तो क्यों दिल लगाने देती है,
मेरी मुस्कराहट तेरा चेहरा खिला देती है?
अगर खिला देती है तो मुझे मुस्कुराने क्यों नहीं देती,
मेरी ख़ुशी तुझे हँसने को मजबूर नहीं करती?
अगर हंसने को मजबूर करती है तो क्यों मुझे खुश नहीं होने देती,
अच्छा एक बात बता ज़िन्दगी
“संदीप कुमार”

297 Views
You may also like:
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
💐💐प्रेम की राह पर-20💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
भोपाल गैस काण्ड
Shriyansh Gupta
"दोस्त"
Lohit Tamta
दिल और गुलाब
Vikas Sharma'Shivaaya'
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
आपकी तरहां मैं भी
gurudeenverma198
बेजुबान
Anamika Singh
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं
विमल शर्मा'विमल'
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
पिता का सपना
श्री रमण
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
बदलती परम्परा
Anamika Singh
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपने पापा की मैं हूं।
Taj Mohammad
मां ‌धरती
AMRESH KUMAR VERMA
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
Loading...