Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2023 · 1 min read

“एक बड़ा सवाल”

“एक बड़ा सवाल”
मुफ़लिसी में एक बड़ा सवाल
रोटी या कविता?
मगर कवि तो
दोनों के सहारे है जीता,
रोटी ऊर्जा देती है
कविता जगाती है जज्बा,
पता नहीं
क्या है आपका तजर्बा?

9 Likes · 5 Comments · 435 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
विशाल अजगर बनकर
विशाल अजगर बनकर
Shravan singh
अंगद के पैर की तरह
अंगद के पैर की तरह
Satish Srijan
माँ की अभिलाषा 🙏
माँ की अभिलाषा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
झुर्री-झुर्री पर लिखा,
झुर्री-झुर्री पर लिखा,
sushil sarna
2632.पूर्णिका
2632.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
**वसन्त का स्वागत है*
**वसन्त का स्वागत है*
Mohan Pandey
*हमारे विवाह की रूबी जयंती*
*हमारे विवाह की रूबी जयंती*
Ravi Prakash
खरी - खरी
खरी - खरी
Mamta Singh Devaa
पर्यावरण
पर्यावरण
Neeraj Agarwal
रस्म ए उल्फ़त में वफ़ाओं का सिला
रस्म ए उल्फ़त में वफ़ाओं का सिला
Monika Arora
चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है
चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है
Dr Archana Gupta
शॉल (Shawl)
शॉल (Shawl)
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
बताती जा रही आंखें
बताती जा रही आंखें
surenderpal vaidya
मोहब्बत
मोहब्बत
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
Rekha khichi
भीरू नही,वीर हूं।
भीरू नही,वीर हूं।
Sunny kumar kabira
पागलपन
पागलपन
भरत कुमार सोलंकी
भारत के बीर सपूत
भारत के बीर सपूत
Dinesh Kumar Gangwar
बिजलियों का दौर
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल बदायूंनी
सुखम् दुखम
सुखम् दुखम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
पंकज कुमार कर्ण
सफ़ारी सूट
सफ़ारी सूट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*Fruits of Karma*
*Fruits of Karma*
Poonam Matia
हजारों मील चल करके मैं अपना घर पाया।
हजारों मील चल करके मैं अपना घर पाया।
Sanjay ' शून्य'
जल है, तो कल है - पेड़ लगाओ - प्रदूषण भगाओ ।।
जल है, तो कल है - पेड़ लगाओ - प्रदूषण भगाओ ।।
Lokesh Sharma
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
gurudeenverma198
2 जून की रोटी की खातिर जवानी भर मेहनत करता इंसान फिर बुढ़ापे
2 जून की रोटी की खातिर जवानी भर मेहनत करता इंसान फिर बुढ़ापे
Harminder Kaur
दोस्तो जिंदगी में कभी कभी ऐसी परिस्थिति आती है, आप चाहे लाख
दोस्तो जिंदगी में कभी कभी ऐसी परिस्थिति आती है, आप चाहे लाख
Sunil Maheshwari
जीवन के सफ़र में
जीवन के सफ़र में
Surinder blackpen
Loading...