Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2023 · 1 min read

एक फूल की हत्या

बहारों पर हक है
केवल बागों का
न कि तुम्हारे घर की
चारदीवारी, कोनों और
कमरों का
कैसे कैसे बेहूदे शौक पाल रखे हैं तुम
पढ़े लिखे और सभ्य लोगों ने कि
एक फूल को तोड़ते हो
उसे उसके पौधे, पेड़ की टहनी या
उसके स्थाई निवास स्थान से जुदा करते हो
उसका दिल तोड़ देते हो
उसके जीवन की खुशियां लूट लेते हो
उसकी महकती फूलों की बगिया उजाड़ देते हो
उसकी हत्या कर देते हो
उसको मौत की गहरी नींद सुला देते हो
उस फूल को फिर एक गुलदस्ते में
सजाकर खुश होते हो
खुद के घर की रौनक बढ़ाते हो
उसकी सुंदरता को निहारते हो
उसकी कोमलता को स्पर्श करते हो
उसे तोड़ते हो, मरोड़ते हो, कुचलते हो
वह मुर्झाकर सूख जाता है तो
उसे बेरहमी से कूड़े में फेंक देते हो
किस तरह का समाज है यह
कहीं से कोई संजीदा नहीं
संवेदनशील नहीं
गंभीर नहीं
खुदगर्ज सब इतने कि
अपने सिवाय किसी अन्य के
विषय में सोचते ही नहीं
यह किसी के दर्द या
दर्द की इंतहा को क्या समझेंगे
जब यह सब कुछ बिखेरते हैं
कुछ भी जिंदगी भर
संजोते नहीं।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

Language: Hindi
358 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Minal Aggarwal
View all
You may also like:
2850.*पूर्णिका*
2850.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तन्हाई के पर्दे पर
तन्हाई के पर्दे पर
Surinder blackpen
आंख से गिरे हुए आंसू,
आंख से गिरे हुए आंसू,
नेताम आर सी
"सियासत"
Dr. Kishan tandon kranti
शातिरपने की गुत्थियां
शातिरपने की गुत्थियां
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
उस
उस"कृष्ण" को आवाज देने की ईक्षा होती है
Atul "Krishn"
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
Vishal babu (vishu)
*समान नागरिक संहिता गीत*
*समान नागरिक संहिता गीत*
Ravi Prakash
आँसू छलके आँख से,
आँसू छलके आँख से,
sushil sarna
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
ओसमणी साहू 'ओश'
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रंगों के पावन पर्व होली की हार्दिक बधाई व अनन्त शुभकामनाएं
रंगों के पावन पर्व होली की हार्दिक बधाई व अनन्त शुभकामनाएं
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
घनाक्षरी गीत...
घनाक्षरी गीत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
नारी के चरित्र पर
नारी के चरित्र पर
Dr fauzia Naseem shad
★साथ तेरा★
★साथ तेरा★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
तुम बदल जाओगी।
तुम बदल जाओगी।
Rj Anand Prajapati
मनोरमा
मनोरमा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
वोट डालने जाना
वोट डालने जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मित्रता
मित्रता
Shashi kala vyas
■ दास्य भाव के शिखर पुरूष गोस्वामी तुलसीदास
■ दास्य भाव के शिखर पुरूष गोस्वामी तुलसीदास
*Author प्रणय प्रभात*
शिव-शक्ति लास्य
शिव-शक्ति लास्य
ऋचा पाठक पंत
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Leena Anand
कभी जो रास्ते तलाशते थे घर की तरफ आने को, अब वही राहें घर से
कभी जो रास्ते तलाशते थे घर की तरफ आने को, अब वही राहें घर से
Manisha Manjari
12- अब घर आ जा लल्ला
12- अब घर आ जा लल्ला
Ajay Kumar Vimal
सफलता तीन चीजे मांगती है :
सफलता तीन चीजे मांगती है :
GOVIND UIKEY
वाणी वंदना
वाणी वंदना
Dr Archana Gupta
मेला एक आस दिलों🫀का🏇👭
मेला एक आस दिलों🫀का🏇👭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पिता
पिता
Manu Vashistha
सवा सेर
सवा सेर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...