Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 1 min read

एक पते की बात

एक पते की बात बताऊं, सबहूं कहूं सनमाने
धर्म रहे हृदय स्थाने, जो नर यह पहचाने
सदा पाप से दूर रहे वह, ईश्वर अल्लाह जाने
एक पते की बात बताऊं, नहीं जिहाद मनमानी
कुदरत की इस कायनात पर, हिंसा है बेमानी
एक पते की बात बताऊं, वंदे माने या न माने
खुद को जो न जान सके, वह खुदा को क्या पहचाने
एक पते की बात बताऊं, सिया राम जग जाने
स्वयं में जो न रमा, राम को वो नर कैंसे जाने
एक पते की बात बताऊं, आगे अल्ला जाने
होती नहीं जिहाद है ऐसी, जो ले बेगुनाहों की जानें
एक पते की बात बताऊं, समझो तो समझाऊं
एक है धरती एक गगन है, एक ही सबकी जानें
एक ही मात पिता की बंदे, सब जग हैं संतानें
एक पते की बात बताऊं, है यह लिखा लिखाया
मानव होकर मानवता को, जो नर समझ ना पाया
पशुपत होकर रहा जगत में, जीवन व्यर्थ गवाया
एक पते की बात बताऊं, बंदे जाने या ना जाने
प्रेम जगत का सार है बंधु, बाकी सभी फंसाने

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
*जगत*【 कुंडलिया 】
*जगत*【 कुंडलिया 】
Ravi Prakash
रूह का भी निखार है
रूह का भी निखार है
Dr fauzia Naseem shad
पिता की छांव
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
गाँव की साँझ / (नवगीत)
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सामाजिक रिवाज
सामाजिक रिवाज
Anil "Aadarsh"
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
* ग़ज़ल * ( ताजमहल बनाते रहना )
* ग़ज़ल * ( ताजमहल बनाते रहना )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Only for L
Only for L
श्याम सिंह बिष्ट
रूप पर अनुरक्त होकर आयु की अभिव्यंजिका है
रूप पर अनुरक्त होकर आयु की अभिव्यंजिका है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
भूख
भूख
RAKESH RAKESH
" जय हो "
DrLakshman Jha Parimal
हमारा देश भारत
हमारा देश भारत
surenderpal vaidya
बस तू चाहिए
बस तू चाहिए
Harshvardhan "आवारा"
मैं राहुल गांधी बोल रहा हूं!
मैं राहुल गांधी बोल रहा हूं!
Shekhar Chandra Mitra
निखरे मौसम में भी, स्याह बादल चले आते हैं, भरते ज़ख्मों को कुरेद कर, नासूर बना जाते हैं।
निखरे मौसम में भी, स्याह बादल चले आते हैं, भरते ज़ख्मों को कुरेद कर, नासूर बना जाते हैं।
Manisha Manjari
इस जमाने जंग को,
इस जमाने जंग को,
Dr. Man Mohan Krishna
एक से नहीं होते
एक से नहीं होते
shabina. Naaz
राब्ता
राब्ता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इच्छाओं का घर
इच्छाओं का घर
Anamika Singh
नई जिंदगानी
नई जिंदगानी
AMRESH KUMAR VERMA
दो चार अल्फाज़।
दो चार अल्फाज़।
Taj Mohammad
💐अज्ञात के प्रति-150💐
💐अज्ञात के प्रति-150💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कण कण में शंकर
कण कण में शंकर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम्हारे रुख़सार यूँ दमकते
तुम्हारे रुख़सार यूँ दमकते
Anis Shah
आसमान को उड़ने चले,
आसमान को उड़ने चले,
Buddha Prakash
दो दिन
दो दिन
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
गुरु तेग बहादुर जी जन्म दिवस
गुरु तेग बहादुर जी जन्म दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2356.पूर्णिका
2356.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
***
*** " मन बावरा है...!!! " ***
VEDANTA PATEL
Loading...