Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 1 min read

एक नया इतिहास लिखो

हृदय ठान लो हे वैदेही!
एक नया इतिहास लिखो।
जितना तुमने झेला मन में
वह अपना संत्रास लिखो।।

लिखो तनिक अपने पाॅंवों की,
विषम वेदना का अवसर!
लिखो टूटकर झरते अपने,
जीवित सपनों का कण-कण !!

व्यथा और अनहोनी का भी,
व्यंग भरा मृदुहास लिखो।
हृदय ठान लो हे वैदेही!
एक नया इतिहास लिखो।।

लिखो दासियोॅं का मोहित मन,
लंका में जो साथ रहीं!
जो अपना माने थीं तुमको,
जुड़ तुमसे कुछ खास रहीं!!

पुनरावृत्ति नहीं हो फिर से,
टीस भरा वनवास लिखो!
हृदय ठान लो हे वैदेही
एक नया इतिहास लिखो।।

नीॅंव डाल दी अग्नि परीक्षा
की होकर जन-प्यारी क्यों
तुम तो ईष्ट साधिका थी ही
फिर पुरुषों से हारी क्यों?

भूमि-सुता वसुधा पर आकर
नव-चेतन-विश्वास लिखो।
हृदय ठान लो हे वैदेही
एक नया इतिहास लिखो।

स्वरचित
रश्मि लहर
लखनऊ, उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 258 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहे
दोहे
डॉक्टर रागिनी
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हम हंसना भूल गए हैं (कविता)
हम हंसना भूल गए हैं (कविता)
Indu Singh
बेटियां / बेटे
बेटियां / बेटे
Mamta Singh Devaa
*रंगों का ज्ञान*
*रंगों का ज्ञान*
Dushyant Kumar
प्रेम पथ का एक रोड़ा✍️✍️
प्रेम पथ का एक रोड़ा✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*डॉक्टर चंद्रप्रकाश सक्सेना कुमुद जी*
*डॉक्टर चंद्रप्रकाश सक्सेना कुमुद जी*
Ravi Prakash
अपना - पराया
अपना - पराया
Neeraj Agarwal
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
Mukesh Kumar Sonkar
🔘सुविचार🔘
🔘सुविचार🔘
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
23/184.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/184.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“जो पानी छान कर पीते हैं,
“जो पानी छान कर पीते हैं,
शेखर सिंह
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
gurudeenverma198
खुद की नज़रों में भी
खुद की नज़रों में भी
Dr fauzia Naseem shad
सुबह का प्रणाम। इस शेर के साथ।
सुबह का प्रणाम। इस शेर के साथ।
*प्रणय प्रभात*
मनमीत
मनमीत
लक्ष्मी सिंह
घर के किसी कोने में
घर के किसी कोने में
आकांक्षा राय
बढ़ना चाहते है हम भी आगे ,
बढ़ना चाहते है हम भी आगे ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
कहना तो बहुत कुछ है
कहना तो बहुत कुछ है
पूर्वार्थ
ईर्ष्या
ईर्ष्या
नूरफातिमा खातून नूरी
"डगर"
Dr. Kishan tandon kranti
पुलिस की चाल
पुलिस की चाल
नेताम आर सी
आज भी अधूरा है
आज भी अधूरा है
Pratibha Pandey
तारीख
तारीख
Dr. Seema Varma
रोटियों से भी लड़ी गयी आज़ादी की जंग
रोटियों से भी लड़ी गयी आज़ादी की जंग
कवि रमेशराज
आत्म बोध
आत्म बोध
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
Sukoon
मुस्कुराना जरूरी है
मुस्कुराना जरूरी है
Mamta Rani
Loading...