Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2023 · 2 min read

एक देश एक कानून

भेद भाव में जन्मी सनातनी व्यवस्था, को एक समान बनाना है,
यूनिफॉर्म सिविल कोड लाकर सभी को ब्राह्मण या सभी को शूद्र बनाना है..।।

ना कोई रहेगा सारस्वत, शर्मा ना कोई रहेगा पिप्पली, मेहतो, वर्मा,
राजपूत, ठाकुर, ब्राह्मण के माथे से, जाति का झूठा घमंड हटाना है..।।

हर कोई चढ़ेगा घोड़ी ताँगा, हर कोई बांधेगा सिर से सेहरा साफा,
बारात निकलेगी भरी समाज से, सात फेरों के विद्वान मंत्र सुनाएगा..।।

हर कोई करेगा मंदिर में पूजा, हर कोई भगवान की आरती गाएगा,
हर कोई करेगा वेद मंत्रों का पाठ, हर कोई जन्म कुंडली बनाएगा..।।

ना काम के नाम से जाति बनेगी, ना कोई होगा नाई, बढ़ई, कुम्हार या चमार,
नाली, नाला, कूड़ा को हर साफ करेगा, ना कोई होगा जाति से ढ़ोल गवाँर ।।

आरक्षण से मिले जाति प्रमाणपत्र को, समाज में समान सम्मान प्रमाणपत्र में बदलना है,
धन दौलत संम्पति के आधार पर, हर गरीब को आगे बढ़ने का अवसर देना है.।।

बहुत ठग लिया जाति नेता और पंडाओं ने, अब ना किसी के पैरों में शीश झुकाना है,
यूनिफार्म सिविल कोड लाकर, धनवान शूद्रों से भी आरक्षण को बचाना है.।।

पहले करेंगे हिंदुओ को एक समान, फिर अन्य धर्मो को भी इसी कानून में लाना है,
यूनिफार्म सिविल कोड बनाकर, एक देश एक कानून बनाना है..।।

जाति के नाम पर ना हो कोई अत्याचार, जाति के नाम पर ना हो कोई भेदभाव,
धर्म तो है आध्यात्मिक आस्था, धर्म के कर्मकांडों से इंसानियत को बचाना है..।।

यूनिफॉर्म सिविल कोड लाकर, इंसानियत का भेद मिटाना है,
एक सम्मत कानून बनाना है, सभी को एक समान अधिकार दिलाना है..।।

प्रशांत सोलंकी
नई दिल्ली-07

Language: Hindi
1 Like · 367 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
जो वक्त से आगे चलते हैं, अक्सर लोग उनके पीछे चलते हैं।।
जो वक्त से आगे चलते हैं, अक्सर लोग उनके पीछे चलते हैं।।
Lokesh Sharma
दास्तान-ए- वेलेंटाइन
दास्तान-ए- वेलेंटाइन
Dr. Mahesh Kumawat
सहसा यूं अचानक आंधियां उठती तो हैं अविरत,
सहसा यूं अचानक आंधियां उठती तो हैं अविरत,
Abhishek Soni
02/05/2024
02/05/2024
Satyaveer vaishnav
तारीफ आपका दिन बना सकती है
तारीफ आपका दिन बना सकती है
शेखर सिंह
तुम मेरी
तुम मेरी
हिमांशु Kulshrestha
पावस में करती प्रकृति,
पावस में करती प्रकृति,
Mahendra Narayan
मै पत्नी के प्रेम में रहता हूं
मै पत्नी के प्रेम में रहता हूं
भरत कुमार सोलंकी
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
Bodhisatva kastooriya
*चारों और मतलबी लोग है*
*चारों और मतलबी लोग है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
Sunil Maheshwari
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
भेड़चाल
भेड़चाल
Dr fauzia Naseem shad
Destiny
Destiny
Dhriti Mishra
जिंदगी को जीने का तरीका न आया।
जिंदगी को जीने का तरीका न आया।
Taj Mohammad
"तुम्हारी हंसी" (Your Smile)
Sidhartha Mishra
" पहला खत "
Aarti sirsat
बिन सूरज महानगर
बिन सूरज महानगर
Lalit Singh thakur
बस जिंदगी है गुज़र रही है
बस जिंदगी है गुज़र रही है
Manoj Mahato
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लिखें जो खत तुझे कोई कभी भी तुम नहीं पढ़ते !
लिखें जो खत तुझे कोई कभी भी तुम नहीं पढ़ते !
DrLakshman Jha Parimal
आहत हो कर बापू बोले
आहत हो कर बापू बोले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
3003.*पूर्णिका*
3003.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पिया मिलन की आस
पिया मिलन की आस
Kanchan Khanna
परवरिश
परवरिश
Shashi Mahajan
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
Yogendra Chaturwedi
दस्तक भूली राह दरवाजा
दस्तक भूली राह दरवाजा
Suryakant Dwivedi
वर्ल्ड रिकॉर्ड
वर्ल्ड रिकॉर्ड
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
Loading...