Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

एक थी गंगा

एक थी गंगा, मादा तोता,
माँ ने उसको पाल रखा था,
रहती टंगी द्वार के सम्मुख,
रंग-रूप मनभावन उसका,

ब्रह्म-मुहूर्त्त में वह उठ जाती,
‘सीता-राम’ का जाप लगाती,
घर का कोई गुजरता उधर से,
बड़े प्यार से उसे बुलाती,

दूर देख हमें पास बुलाती,
अपनी बोली से रिझाती,
किसी को खाते देख चिल्लाती
अपने हक का खाना पाती,

अजनबी देख वह ‘टें-टें’ करती,
चौकन्ना हो करती रक्षा,
तरह-तरह के करतब करती,
सिद्ध करती अपनी महत्ता,

रही नहीं वह इस दुनियांँ में,
खाली पिंजरे को छोड़ चली,
यह नश्वर शरीर त्यागकर,
उन्मुक्त गगन की ओर चली।

मौलिक व स्वरचित
डा.श्री रमण ‘श्रीपद्’
बेगूसराय (बिहार)

Language: Hindi
4 Likes · 6 Comments · 207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
View all
You may also like:
आपकी बुद्धिमत्ता को कभी भी एक बार में नहीं आंका जा सकता क्यो
आपकी बुद्धिमत्ता को कभी भी एक बार में नहीं आंका जा सकता क्यो
Rj Anand Prajapati
#प्रभात_वंदन
#प्रभात_वंदन
*Author प्रणय प्रभात*
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
Harminder Kaur
2564.पूर्णिका
2564.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कोरोना और पानी
कोरोना और पानी
Suryakant Dwivedi
कब मेरे मालिक आएंगे!
कब मेरे मालिक आएंगे!
Kuldeep mishra (KD)
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
नींद का चुरा लेना बड़ा क़ातिल जुर्म है
नींद का चुरा लेना बड़ा क़ातिल जुर्म है
'अशांत' शेखर
"लाजिमी"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
अनिल कुमार
रंगरेज कहां है
रंगरेज कहां है
Shiva Awasthi
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
Sarfaraz Ahmed Aasee
सत्य दीप जलता हुआ,
सत्य दीप जलता हुआ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नेता पलटू राम
नेता पलटू राम
Jatashankar Prajapati
93. ये खत मोहब्बत के
93. ये खत मोहब्बत के
Dr. Man Mohan Krishna
अवसाद का इलाज़
अवसाद का इलाज़
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन करता है अभी भी तेरे से मिलने का
मन करता है अभी भी तेरे से मिलने का
Ram Krishan Rastogi
💐प्रेम कौतुक-425💐
💐प्रेम कौतुक-425💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक सवाल ज़िंदगी है
एक सवाल ज़िंदगी है
Dr fauzia Naseem shad
शब्द गले में रहे अटकते, लब हिलते रहे।
शब्द गले में रहे अटकते, लब हिलते रहे।
विमला महरिया मौज
एक मुस्कान के साथ फूल ले आते हो तुम,
एक मुस्कान के साथ फूल ले आते हो तुम,
Kanchan Alok Malu
मेरे भी थे कुछ ख्वाब
मेरे भी थे कुछ ख्वाब
Surinder blackpen
खुद से मिल
खुद से मिल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
लक्ष्मी सिंह
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
श्वान संवाद
श्वान संवाद
Shyam Sundar Subramanian
जो भी कहा है उसने.......
जो भी कहा है उसने.......
कवि दीपक बवेजा
रंगों का कोई धर्म नहीं होता होली हमें यही सिखाती है ..
रंगों का कोई धर्म नहीं होता होली हमें यही सिखाती है ..
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सहकारी युग ,हिंदी साप्ताहिक का 15 वाँ वर्ष { 1973 - 74 }*
सहकारी युग ,हिंदी साप्ताहिक का 15 वाँ वर्ष { 1973 - 74 }*
Ravi Prakash
जन्म नही कर्म प्रधान
जन्म नही कर्म प्रधान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...