Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2024 · 1 min read

एक तरफ़ा मोहब्बत

आजतक तुम्हें इस दिल के कोने में छिपा रखा है,
जैसे आजतक तेरी खुशबू ने मेरे बदन को महका रखा है।
मैं खाइशे हज़ार लेकर बैठी हूँ हमारे इश्क़ के साये में
आजतक तेरे इश्क़ ने ही मेरी धड़कनो को संभाल रखा है।।

दुबारा किसी और से इश्क़ करने का सवाल नही है,
तुझे छोड़ने का कोई हमारा ख्याल नही है।
और माना कि पिछले 10 साल से किया है मैंने तुमसे इश्क़ एक तरफा
पर फिर तुम्हारा साथ न होने का मुझे कोई मलाल नही है।।

31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ख़्वाहिशें
ख़्वाहिशें
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
// दोहा ज्ञानगंगा //
// दोहा ज्ञानगंगा //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*तन्हाँ तन्हाँ  मन भटकता है*
*तन्हाँ तन्हाँ मन भटकता है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मुफ्तखोरी
मुफ्तखोरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*बारिश आई (बाल कविता)*
*बारिश आई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
Rj Anand Prajapati
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
हम सुख़न गाते रहेंगे...
हम सुख़न गाते रहेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
माँ दे - दे वरदान ।
माँ दे - दे वरदान ।
Anil Mishra Prahari
देखें हम भी उस सूरत को
देखें हम भी उस सूरत को
gurudeenverma198
सूरज की किरणों
सूरज की किरणों
Sidhartha Mishra
3445🌷 *पूर्णिका* 🌷
3445🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
"लोकतंत्र में"
Dr. Kishan tandon kranti
बेटी शिक्षा
बेटी शिक्षा
Dr.Archannaa Mishraa
समय को पकड़ो मत,
समय को पकड़ो मत,
Vandna Thakur
#मानो_या_न_मानो
#मानो_या_न_मानो
*प्रणय प्रभात*
मौन के प्रतिमान
मौन के प्रतिमान
Davina Amar Thakral
हार से भी जीत जाना सीख ले।
हार से भी जीत जाना सीख ले।
सत्य कुमार प्रेमी
विचार
विचार
Godambari Negi
میرے اس دل میں ۔
میرے اس دل میں ۔
Dr fauzia Naseem shad
मैं होता डी एम
मैं होता डी एम"
Satish Srijan
आलाप
आलाप
Punam Pande
हे राम,,,,,,,,,सहारा तेरा है।
हे राम,,,,,,,,,सहारा तेरा है।
Sunita Gupta
नदी से जल सूखने मत देना, पेड़ से साख गिरने मत देना,
नदी से जल सूखने मत देना, पेड़ से साख गिरने मत देना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
आनंद प्रवीण
जो चाहने वाले होते हैं ना
जो चाहने वाले होते हैं ना
पूर्वार्थ
इंसान इंसानियत को निगल गया है
इंसान इंसानियत को निगल गया है
Bhupendra Rawat
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
Neelam Sharma
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...