Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 1 min read

एक गंभीर समस्या भ्रष्टाचारी काव्य

भारत जैसे भव्य सी भुवन में
भ्रष्टाचारी एक गंभीर समस्या
पूर्ण देश में अपनी जाल फैला
हमारे मुल्क को कर रही दुर्बल ।

देश की हालत है इस काबिल
कि एक बार जो बन गया नेता
उसे वित्त की न होती कभी खेता
वह संपूर्ण जिंदगी भी खा सकता ।

भारत के लगभग लगभग
जितने भी जन अधिकारी है
सब के सब होते है उपप्रदानी
इनका तनखा से ना भरता पेट ।

भ्रष्टाचारी को दूर करना
ऐसा लगता जैसा मानो
चलनी में पानी भरने का
हो कार्य, आखिर ऐसा क्यों ? …

क्यों डर रहे आज पुलिस से लोग
जो जनता के रक्षक है कहलाते
अपनी समस्या का समाधान हेतु
क्यों जाने से डरते है इनके पास

क्यों इतनी भ्रष्टाचारी है चारों ओर
हमारी इस‌ चारु सी कलित भव में
क्यों पुलिस लेती रिश्वत लोगों से
एफ०आई०आर० लिखने से पूर्व ।

छोटे से लेकर बड़े अधिकारी तक
क्यों आज इतने भ्रष्ट होते जा रहे
लोग सरकारी स्कूलों से अतिशय
प्राइवेट को क्यों मान रहे है आज

सरकार की कोई योजना का लाभ
क्या गरीबों तक सही से पहुंच रही
इसकी भी उन्हें करनी चाहिए शोध
आधा सीधा तो मध्यवाले ही खा लेते ।

भ्रष्टाचारी दीमक की तरह देश को
खोखला करने का करती है कार्य
भ्रष्टाचारी ! भ्रष्टाचारी ! भ्रष्टाचारी !
क्यों बढ़ रही हमारे ललाम मुल्क में ।

✍️✍️✍️ लेखक:- अमरेश कुमार वर्मा

Language: Hindi
252 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
राजभवनों में बने
राजभवनों में बने
Shivkumar Bilagrami
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
आजकल के समाज में, लड़कों के सम्मान को उनकी समझदारी से नहीं,
आजकल के समाज में, लड़कों के सम्मान को उनकी समझदारी से नहीं,
पूर्वार्थ
पिछले पन्ने 4
पिछले पन्ने 4
Paras Nath Jha
एक दिवस में
एक दिवस में
Shweta Soni
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
Dr Archana Gupta
Dil toot jaayein chalega
Dil toot jaayein chalega
Prathmesh Yelne
रब ने बना दी जोड़ी😊😊
रब ने बना दी जोड़ी😊😊
*प्रणय प्रभात*
गृहिणी (नील पदम् के दोहे)
गृहिणी (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
गुप्तरत्न
"एक नज़र"
Dr. Kishan tandon kranti
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
कवि दीपक बवेजा
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
3531.🌷 *पूर्णिका*🌷
3531.🌷 *पूर्णिका*🌷
Dr.Khedu Bharti
सच ही सच
सच ही सच
Neeraj Agarwal
राखी का कर्ज
राखी का कर्ज
Mukesh Kumar Sonkar
तेरे प्यार के राहों के पथ में
तेरे प्यार के राहों के पथ में
singh kunwar sarvendra vikram
बुंदेली मुकरियां
बुंदेली मुकरियां
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ये सर्द रात
ये सर्द रात
Surinder blackpen
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
Gouri tiwari
कलयुग के बाबा
कलयुग के बाबा
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*मुंडी लिपि : बहीखातों की प्राचीन लिपि*
*मुंडी लिपि : बहीखातों की प्राचीन लिपि*
Ravi Prakash
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हम
हम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बेफिक्री की उम्र बचपन
बेफिक्री की उम्र बचपन
Dr Parveen Thakur
हंसते हुए तेरे चेहरे ये बहुत ही खूबसूरत और अच्छे लगते है।
हंसते हुए तेरे चेहरे ये बहुत ही खूबसूरत और अच्छे लगते है।
Rj Anand Prajapati
Loading...