Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2018 · 1 min read

एक कमरे की जिन्दगी!!!

एक कमरे की जिन्दगी!!!

एक कमरे में बसर करती ये जिन्दगी
जाने कहां कब क्यूं खत्म होती जिन्दगी!!

खिलखिलाते से बचपन लिये खिलती
कभी बहकती जवानी लिये जिन्दगी
लङखङाता बुढापा लिये लङखङाती
आती जन्म मरण परण लिये जिन्दगी!
जाने कहां कब क्यूं खत्म होती जिन्दगी!!

चादर से बङे होते पाँव की सी फैलती
या रिश्तो संग बहती नाव सी जिन्दगी
अनजाने से अनचाहे घाव सी दे जाती
बबूल कभी बरगद के छाँव सी जिन्दगी!
जाने कहां कब क्यूं खत्म होती जिन्दगी!!

दोनों हाथों को फैला चांद को छू आती
भाई भाई के मन को ना छूती जिन्दगी
कहने को तो हमें समृद्दि आज छू आती
माँ बाप को घर में ना छू पाती जिन्दगी!
जाने कहां कब क्यूं खत्म होती जिन्दगी!!

अनकही यादों की गलबहियाँ सी हंसती
समय शून्य में अठखेलियों सी जिन्दगी
मुट्ठी में बंद कुछ निशानियों को कसती
दीवार टंगी अपनो की स्मृत्तियाँ जिन्दगी!
जाने कहां कब क्यूं खत्म होती जिन्दगी!!

खाली कोना बंद दरवाजे चुप सी सन्नाती,
खुली खिङकी से झाँकती आती जिन्दगी!
दरारों की वजह से दीवारों को यूं दरकती
कभी बङी खाइयों को भी पाटती जिन्दगी!
जाने कहां कब क्यूं खत्म होती जिन्दगी!!

——-डा. निशा माथुर/8952874359

Language: Hindi
527 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
Surinder blackpen
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr. Priya Gupta
अति मंद मंद , शीतल बयार।
अति मंद मंद , शीतल बयार।
Kuldeep mishra (KD)
2630.पूर्णिका
2630.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
दिकपाल छंदा धारित गीत
दिकपाल छंदा धारित गीत
Sushila joshi
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
Yogendra Chaturwedi
" सब किमे बदलग्या "
Dr Meenu Poonia
यूॅं बचा कर रख लिया है,
यूॅं बचा कर रख लिया है,
Rashmi Sanjay
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
Dr. Man Mohan Krishna
पन्नें
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
नेता हुए श्रीराम
नेता हुए श्रीराम
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
हिमांशु Kulshrestha
★बादल★
★बादल★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
परमात्मा
परमात्मा
ओंकार मिश्र
*शक्तिपुंज यह नारी है (मुक्तक)*
*शक्तिपुंज यह नारी है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
पूर्वार्थ
🙅ओनली पूछिंग🙅
🙅ओनली पूछिंग🙅
*प्रणय प्रभात*
हसीब सोज़... बस याद बाक़ी है
हसीब सोज़... बस याद बाक़ी है
अरशद रसूल बदायूंनी
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
Mukesh Kumar Sonkar
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
Neelam Sharma
जीवन में संघर्ष सक्त है।
जीवन में संघर्ष सक्त है।
Omee Bhargava
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
Manju Singh
मेरे प्रिय पवनपुत्र हनुमान
मेरे प्रिय पवनपुत्र हनुमान
Anamika Tiwari 'annpurna '
भरम
भरम
Shyam Sundar Subramanian
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
Ghanshyam Poddar
खुबिया जानकर चाहना आकर्षण है.
खुबिया जानकर चाहना आकर्षण है.
शेखर सिंह
अब तो चरागों को भी मेरी फ़िक्र रहती है,
अब तो चरागों को भी मेरी फ़िक्र रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
gurudeenverma198
Loading...