एक अदना दिल तो था लेकिन मुझे टूटा लगा

अब वही बेहतर बताएगा के उसको क्या लगा
इश्क़ में नुक़्सान मेरा पर मुझे अच्छा लगा

यूँ शिकन आई जबीं पर उसके, मुझको देखकर
वह मुझे फ़िलवक़्त मेरे दर्द का हिस्सा लगा

मैं उसे देता भी क्या था सामने मेरे सवाल
एक अदना दिल तो था लेकिन मुझे टूटा लगा

ख़ुश्बू-ए-बादे सबा क्यूँ जानी पहचानी है आज
सोचता मैं यह, के वह मेरे गले से आ लगा

आस्माँ के चाँद का करता भला क्यूँ इन्तज़ार
जब मेरा ही रू किसी को चाँद के जैसा लगा

मैंने कोशिश की बहुत अपना बनाने की मगर
वाक़ई वह ग़ैर ही था ग़ैर ही से जा लगा

इल्म भी है क्या किसी को यह, के इस ग़ाफ़िल का भी
ज़ीनते महफ़िल की ख़ातिर, जोर जो भी था, लगा

-‘ग़ाफ़िल’

179 Views
You may also like:
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
आपके जाने के बाद
pradeep nagarwal
माँ क्या लिखूँ।
Anamika Singh
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
A Warrior Of The Darkness
Manisha Manjari
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
वसंत का संदेश
Anamika Singh
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आंखों का वास्ता।
Taj Mohammad
तू हैं शब्दों का खिलाड़ी....
Dr. Alpa H.
साथी क्रिकेटरों के मध्य "हॉलीवुड" नाम से मशहूर शेन वॉर्न
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam मन
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
मां-बाप
Taj Mohammad
प्रेम...
Sapna K S
एक पल,विविध आयाम..!
मनोज कर्ण
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...