Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

*ऋषि नहीं वैज्ञानिक*

वो ऋषि नहीं वैज्ञानिक थे
जो ज्ञान के वृक्ष उगा गए
धरती, जल, वायु,आकाश
सबका संबंध बता गए
वो ऋषि नहीं…

नई नहीं है, बात पुरानी
हम जो अब बतलाते हैं
अनदेखी रेखा से जुड़ कर
सप्तऋषि बन जाते हैं
वो ऋषि नहीं …

गौरव है इतिहास हमारा
वेद हमें बतलाते हैं।
नामित हो तारामंडल में
अमरत्व ऋषि सब पाते हैं।
वो ऋषि नहीं…

नदियाँ, वन , तालाब-तलैया
पूज-पूज कर साफ़ रखे
धर्म आवरण के भीतर
वैज्ञानिक सोच भी साफ़ दिखे
वो ऋषि नहीं…

चमत्कारी थी शल्य-चिकित्सा
आण्विक-शक्ति जानते थे
जो आज तलक है छुपा हुआ
वो सदियों से पहचानते थे
वो ऋषि नहीं…

जीव-विज्ञान या गणित-भौतिकी
सब मंत्रों में बाँध दिया
बीस सहस्त्राधिक मंत्रों से
वेदों का निर्माण किया
वो ऋषि नहीं..

विमान-शास्त्र के ज्ञाता वो
मिश्रित-धातु का ज्ञान दिया
शोध-प्रवृत्ति के थे पोषक
जिसका हमने त्याग किया
वो ऋषि नहीं…

हाथ जोड़ कर अब है विनती
फिर से सींचे हम जड़ को
अनुसरण हम करें उन्हीं का
देश, जगत, अपने हित को
वो ऋषि नहीं…

5 Likes · 682 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Poonam Matia
View all
You may also like:
आ ख़्वाब बन के आजा
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
तुम
तुम
Punam Pande
मन मूरख बहुत सतावै
मन मूरख बहुत सतावै
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक प्यार का नगमा
एक प्यार का नगमा
Basant Bhagawan Roy
सांझा चूल्हा4
सांझा चूल्हा4
umesh mehra
हम बच्चे
हम बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आदमखोर बना जहाँ,
आदमखोर बना जहाँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
********* बुद्धि  शुद्धि  के दोहे *********
********* बुद्धि शुद्धि के दोहे *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बिना आमन्त्रण के
बिना आमन्त्रण के
gurudeenverma198
सावन आया झूम के .....!!!
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
रण
रण
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
shabina. Naaz
हवा के साथ उड़ने वाले
हवा के साथ उड़ने वाले
*Author प्रणय प्रभात*
हिन्दी दोहा -स्वागत 1-2
हिन्दी दोहा -स्वागत 1-2
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
Paras Nath Jha
"Let us harness the power of unity, innovation, and compassi
Rahul Singh
मेरा हाल कैसे किसी को बताउगा, हर महीने रोटी घर बदल बदल कर खा
मेरा हाल कैसे किसी को बताउगा, हर महीने रोटी घर बदल बदल कर खा
Anil chobisa
सूरज की किरणों
सूरज की किरणों
Sidhartha Mishra
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
Ranjeet kumar patre
हार हमने नहीं मानी है
हार हमने नहीं मानी है
संजय कुमार संजू
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
रास्ते में आएंगी रुकावटें बहुत!!
रास्ते में आएंगी रुकावटें बहुत!!
पूर्वार्थ
वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।
वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।
डॉ.सीमा अग्रवाल
23/211. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/211. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नदी की तीव्र धारा है चले आओ चले आओ।
नदी की तीव्र धारा है चले आओ चले आओ।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
"बेहतर"
Dr. Kishan tandon kranti
🙏❌जानवरों को मत खाओ !❌🙏
🙏❌जानवरों को मत खाओ !❌🙏
Srishty Bansal
किताब का दर्द
किताब का दर्द
Dr. Man Mohan Krishna
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
Loading...