Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Sep 2022 · 1 min read

ऋतु

युगों युगों से सुनते आये
सबकी वही कहानी है l
सुख की सर्दी दुःख की गर्मी
दो ऋतु आनी जानी है l
जीना इसी धूप छाँव में
क्यों दुविधा , किसकी चिंता
रख अंकुश चंचल मन पर
जीवन बहता पानी है

Language: Hindi
514 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बदला हुआ ज़माना है
बदला हुआ ज़माना है
Dr. Sunita Singh
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
आजादी विचारों से होनी चाहिये
आजादी विचारों से होनी चाहिये
Radhakishan R. Mundhra
*अदरक वाली चाय (कुंडलिया)*
*अदरक वाली चाय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
राम दीन की शादी
राम दीन की शादी
Satish Srijan
*
*"मुस्कराने की वजह सिर्फ तुम्हीं हो"*
Shashi kala vyas
चंदा मामा सुनो ना मेरी बात 🙏
चंदा मामा सुनो ना मेरी बात 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
***
*** " ये दरारों पर मेरी नाव.....! " ***
VEDANTA PATEL
युद्ध के बाद
युद्ध के बाद
लक्ष्मी सिंह
■मंज़रकशी :--
■मंज़रकशी :--
*Author प्रणय प्रभात*
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
उस वक़्त मैं
उस वक़्त मैं
gurudeenverma198
बारिश की बूंदें
बारिश की बूंदें
Surinder blackpen
“हिचकी
“हिचकी " शब्द यादगार बनकर रह गए हैं ,
Manju sagar
2437.पूर्णिका
2437.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भ्रात प्रेम का रूप है,
भ्रात प्रेम का रूप है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
डर के आगे जीत है
डर के आगे जीत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हम नही रोते परिस्थिति का रोना
हम नही रोते परिस्थिति का रोना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
** फितरत **
** फितरत **
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
मनोज कर्ण
रामायण  के  राम  का , पूर्ण हुआ बनवास ।
रामायण के राम का , पूर्ण हुआ बनवास ।
sushil sarna
कृष्ण कुमार अनंत
कृष्ण कुमार अनंत
Krishna Kumar ANANT
समझे वही हक़ीक़त
समझे वही हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
"अजीब दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
इन  आँखों  के  भोलेपन  में  प्यार तुम्हारे  लिए ही तो सच्चा है।
इन आँखों के भोलेपन में प्यार तुम्हारे लिए ही तो सच्चा है।
Sadhnalmp2001
रहस्यमय तहखाना - कहानी
रहस्यमय तहखाना - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐प्रेम कौतुक-415💐
💐प्रेम कौतुक-415💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
Yogendra Chaturwedi
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मे गांव का लड़का हु इसलिए
मे गांव का लड़का हु इसलिए
Ranjeet kumar patre
Loading...